Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2017 · 1 min read

मेरी मुस्कान

मेरी जान है वो मेरी मुस्कान है वो
मेरे जीवन में सजी महान है वो
भगवान ने दिया वरदान है वो
कभी ना छोड़ना साथ उसका
क्योंकि जीवन की शान हैं वो
बस यही है बात
हर गम में मेरी मुस्कान है वो

1 Like · 1 Comment · 519 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
मुझ को किसी एक विषय में मत बांधिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
#ग़ज़ब
#ग़ज़ब
*Author प्रणय प्रभात*
क्या होगा लिखने
क्या होगा लिखने
Suryakant Dwivedi
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
मैं सोचता हूँ आखिर कौन हूॅ॑ मैं
VINOD CHAUHAN
नारी हूँ मैं
नारी हूँ मैं
Kavi praveen charan
"सत्य"
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
असर हुआ इसरार का,
असर हुआ इसरार का,
sushil sarna
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
You never know when the prolixity of destiny can twirl your
Sukoon
थक गया दिल
थक गया दिल
Dr fauzia Naseem shad
सच ही सच
सच ही सच
Neeraj Agarwal
!! सत्य !!
!! सत्य !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
तुमसे करता हूँ मोहब्बत मैं जैसी
gurudeenverma198
दोस्ती का मर्म (कविता)
दोस्ती का मर्म (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
"नजरों से न गिरना"
Dr. Kishan tandon kranti
क्षतिपूर्ति
क्षतिपूर्ति
Shweta Soni
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
राजे तुम्ही पुन्हा जन्माला आलाच नाही
Shinde Poonam
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
*मायापति को नचा रही, सोने के मृग की माया (गीत)*
Ravi Prakash
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
नव प्रस्तारित छंद -- हरेम्ब
Sushila joshi
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
उपासक लक्ष्मी पंचमी के दिन माता का उपवास कर उनका प्रिय पुष्प
Shashi kala vyas
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
आँखों में सुरमा, जब लगातीं हों तुम
The_dk_poetry
प्यार का गीत
प्यार का गीत
Neelam Sharma
करूण संवेदना
करूण संवेदना
Ritu Asooja
निर्मेष के दोहे
निर्मेष के दोहे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आर-पार की साँसें
आर-पार की साँसें
Dr. Sunita Singh
*तन्हाँ तन्हाँ  मन भटकता है*
*तन्हाँ तन्हाँ मन भटकता है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Loading...