Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

मेरी मलम की माँग

हम भी खड़े रहे थे,
माँ, बेटी व प्यार की दहलीज मे।
कहा एक को चुन लो,
तुम अपने शब्द काव्य के सफर मे।

तो में वतन माँगता हूँ,
में शिशे का दिल व बदन माँगता हूँ।
वो मे हुनर जनता हूँ,
में टुकड़ों टुकड़ों में बिखरना माँगता हूँ।

टूटने पर वजूद न खोता,
काँच सा वह सफल जीवन माँगता हूँ।
देश का स्वाभिमान छुता,
में अपनी कलम से हमेशा वतन माँगता हूँ।

अनिल चौबिसा चित्तौड़गढ़
9829246588

Language: Hindi
249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
हिन्दी दोहा शब्द- फूल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
#तेवरी / #अफ़सरी
#तेवरी / #अफ़सरी
*Author प्रणय प्रभात*
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
रात्रि पहर की छुटपुट चोरी होते सुखद सबेरे थे।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
सब कुछ खत्म नहीं होता
सब कुछ खत्म नहीं होता
Dr. Rajeev Jain
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
स्याह रात मैं उनके खयालों की रोशनी है
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
** पर्व दिवाली **
** पर्व दिवाली **
surenderpal vaidya
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
Ye chad adhura lagta hai,
Ye chad adhura lagta hai,
Sakshi Tripathi
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
*फिर से जागे अग्रसेन का, अग्रोहा का सपना (मुक्तक)*
Ravi Prakash
जिन्दगी
जिन्दगी
लक्ष्मी सिंह
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
वो बीते हर लम्हें याद रखना जरुरी नही
'अशांत' शेखर
घर और घर की याद
घर और घर की याद
डॉ० रोहित कौशिक
जीवन में
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
सुनो सरस्वती / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
कहें किसे क्या आजकल, सब मर्जी के मीत ।
sushil sarna
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
हवाओं ने बड़ी तैय्यारी की है
Shweta Soni
"हर कोई अपने होते नही"
Yogendra Chaturwedi
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
'शत्रुता' स्वतः खत्म होने की फितरत रखती है अगर उसे पाला ना ज
satish rathore
काश यह मन एक अबाबील होता
काश यह मन एक अबाबील होता
Atul "Krishn"
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
सच में कितना प्यारा था, मेरे नानी का घर...
Anand Kumar
शीर्षक - स्वप्न
शीर्षक - स्वप्न
Neeraj Agarwal
💐अज्ञात के प्रति-82💐
💐अज्ञात के प्रति-82💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
स्कूल जाना है
स्कूल जाना है
SHAMA PARVEEN
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
करते हो क्यों प्यार अब हमसे तुम
gurudeenverma198
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कर्मफल भोग
कर्मफल भोग
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
2864.*पूर्णिका*
2864.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Loading...