Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

मेरी बेटी

?????
प्यार की अनोखी
? मूरत हो तुम,
जिन्दगी की एक
? जरूरत हो तुम ,
मेरी आत्मा,
? मेरी जान हो तुम,
मेरी मान और
? अभिमान हो तुम,
मेरी आस्था और
? विश्वास हो तुम,

मेरे दोनों हाथ हो तुम,
?
हर जगह हर पल
? मेरे साथ हो तुम,
?
फूल तो खुबसूरत होते ही हैं,
?
पर फूलों से भी
?ज्यादा खूबसूरत हो तुम।
?लक्ष्मी सिंह ?

2 Likes · 908 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
तुझे भूलना इतना आसां नही है
तुझे भूलना इतना आसां नही है
Bhupendra Rawat
3224.*पूर्णिका*
3224.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Birthday wish
Birthday wish
Ankita Patel
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
🙅विषम-विधान🙅
🙅विषम-विधान🙅
*Author प्रणय प्रभात*
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
मैं हर इक चीज़ फानी लिख रहा हूं
शाह फैसल मुजफ्फराबादी
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
सोशल मीडिया, हिंदी साहित्य और हाशिया विमर्श / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
तेरी यादों को रखा है सजाकर दिल में कुछ ऐसे
Shweta Soni
चयन
चयन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
यूँ जो तुम लोगो के हिसाब से खुद को बदल रहे हो,
पूर्वार्थ
सोशलमीडिया
सोशलमीडिया
लक्ष्मी सिंह
पिता है तो लगता परिवार है
पिता है तो लगता परिवार है
Ram Krishan Rastogi
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जाति आज भी जिंदा है...
जाति आज भी जिंदा है...
आर एस आघात
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
*रखता है हर बार कृष्ण मनमोहन मेरी लाज (भक्ति गीत)*
*रखता है हर बार कृष्ण मनमोहन मेरी लाज (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
"जियो जिन्दगी"
Dr. Kishan tandon kranti
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
चोट शब्द की न जब सही जाए
चोट शब्द की न जब सही जाए
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कहानी। सेवानिवृति
कहानी। सेवानिवृति
मधुसूदन गौतम
मातृ दिवस
मातृ दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बिछड़ा हो खुद से
बिछड़ा हो खुद से
Dr fauzia Naseem shad
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
तुझे ढूंढने निकली तो, खाली हाथ लौटी मैं।
Manisha Manjari
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
स्मृति-बिम्ब उभरे नयन में....
डॉ.सीमा अग्रवाल
★अनमोल बादल की कहानी★
★अनमोल बादल की कहानी★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
Loading...