Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2017 · 1 min read

मेरी बेटी–प्रेरणा

आज नारी की दुश्मन ही नारी है…
तभी तो लगता है जैसे कन्या पैदा होना उन पर भारी है..

लाज अगर अपने हाथ में है..
तो क्यों नहीं करती कन्या के भ्रूण की रखवारी हैं…

अबला रोने को खुद मजबूर है…
इसी लिए उसे करते सब चकनाचूर है…

अगर बुलंद करे वो कन्या के लिए आवाज,
देखते हैं कौन सी ममता के दिल पर वो भारी है….

आज तक यही देखा है…
वो शायद समझती अपनी लाचारी है….

बाप का दिल मेरा भी है…
और बेटी का बाप भी हूँ,
तभी तो मेरी बेटी जग में सब से ज्यादा
प्यारी और राज दुलारी है……….

कवि अजीत कुमार तलवार
मेरठ

Language: Hindi
350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
View all
You may also like:
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
*धूम मची है दुनिया-भर में, जन्मभूमि श्री राम की (गीत)*
Ravi Prakash
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
ऐसी गुस्ताखी भरी नजर से पता नहीं आपने कितनों के दिलों का कत्
Sukoon
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
सरकार
सरकार "सीटों" से बनती है
*प्रणय प्रभात*
तभी भला है भाई
तभी भला है भाई
महेश चन्द्र त्रिपाठी
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
टमाटर तुझे भेजा है कोरियर से, टमाटर नही मेरा दिल है…
Anand Kumar
प्रिय
प्रिय
The_dk_poetry
इसमें हमारा जाता भी क्या है
इसमें हमारा जाता भी क्या है
gurudeenverma198
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/228. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
दुश्मन से भी यारी रख। मन में बातें प्यारी रख। दुख न पहुंचे लहजे से। इतनी जिम्मेदारी रख। ।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
*क्या हुआ आसमान नहीं है*
Naushaba Suriya
शब्द
शब्द
Sangeeta Beniwal
पुष्पदल
पुष्पदल
sushil sarna
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
मैं गीत हूं ग़ज़ल हो तुम न कोई भूल पाएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
चलो♥️
चलो♥️
Srishty Bansal
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
There are seasonal friends. We meet them for just a period o
पूर्वार्थ
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
किये वादे सभी टूटे नज़र कैसे मिलाऊँ मैं
आर.एस. 'प्रीतम'
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Yu hi wakt ko hatheli pat utha kar
Sakshi Tripathi
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
कंठ तक जल में गड़ा, पर मुस्कुराता है कमल ।
Satyaveer vaishnav
मैंने अक्सर अमीरों के सिक्के की रूह कांपते देखा है जब बात एक
मैंने अक्सर अमीरों के सिक्के की रूह कांपते देखा है जब बात एक
BINDESH KUMAR JHA
'हाँ
'हाँ" मैं श्रमिक हूँ..!
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
तुमको खोकर
तुमको खोकर
Dr fauzia Naseem shad
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
तरक़्क़ी देखकर फुले नहीं समा रहे थे ….
Piyush Goel
श्रीकृष्ण
श्रीकृष्ण
Raju Gajbhiye
अचानक से
अचानक से
Dr. Kishan tandon kranti
।। रावण दहन ।।
।। रावण दहन ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
किस किस से बचाऊं तुम्हें मैं,
Vishal babu (vishu)
ना तो कला को सम्मान ,
ना तो कला को सम्मान ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
Loading...