Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jul 2020 · 1 min read

मेरी पहली कविता ( 13/07/1982 ) ” वक्त से “

तुम रहते हो तो मैं
आशाओं के पुल बनाने लगती हूँ
खुशियोंकी लकीरें खीचने लगती हूँ
कि शायद तुम रूको
इसी उम्मीद में दिन गुजर जाते हैं
लेकिन तुम नही रूकते
और मेरे आँसू निकल आते हैं ,
तुम्हारे जाते ही मेरे पुल
जो आशाओं के खम्भों पर टिके हैं
वो लड़खड़ा कर गिर जाते हैं
खुशियों की लकीरें
मेरे आँसूओं से मिट जाती हैं
लेकिन तुम नही रूकते ,
सोचती हूँ तुम क्यों नही
एक बार रूक कर
मेरे आँसू अपने हाथों से पोछ कर
मेरे साथ आशाओं का
कभी ना टूटने वाला पुल बनाते
खुशियोंकी कभी ना मिटने वाली
लकीरें खीचते
सिर्फ एक बार रूक कर ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा , 13/07/82 )

Language: Hindi
3 Likes · 4 Comments · 397 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
2783. *पूर्णिका*
2783. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
प्रेम
प्रेम
Dr.Archannaa Mishraa
"ई-रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
क्या रखा है???
क्या रखा है???
Sûrëkhâ
न मां पर लिखने की क्षमता है
न मां पर लिखने की क्षमता है
पूर्वार्थ
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
*नेत्रदान-संकल्प (गीत)*
Ravi Prakash
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कमाई / MUSAFIR BAITHA
कमाई / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
gurudeenverma198
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
गीत - जीवन मेरा भार लगे - मात्रा भार -16x14
Mahendra Narayan
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
सुखी होने में,
सुखी होने में,
Sangeeta Beniwal
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
कैसी हसरतें हैं तुम्हारी जरा देखो तो सही
VINOD CHAUHAN
कहां बिखर जाती है
कहां बिखर जाती है
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
परख: जिस चेहरे पर मुस्कान है, सच्चा वही इंसान है!
Rohit Gupta
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
पेट मे भीषण मरोड़ के
पेट मे भीषण मरोड़ के
*प्रणय प्रभात*
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव
सपनो का शहर इलाहाबाद /लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
मौज  कर हर रोज कर
मौज कर हर रोज कर
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
वैविध्यपूर्ण भारत
वैविध्यपूर्ण भारत
ऋचा पाठक पंत
अमर काव्य
अमर काव्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
गीत
गीत
जगदीश शर्मा सहज
कब टूटा है
कब टूटा है
sushil sarna
सतरंगी इंद्रधनुष
सतरंगी इंद्रधनुष
Neeraj Agarwal
" नयन अभिराम आये हैं "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
खुद को परोस कर..मैं खुद को खा गया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
इश्क की गली में जाना छोड़ दिया हमने
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
Loading...