Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Sep 2021 · 1 min read

नफ़रत की गोली

मैं गोली तमंचे से नही मुँह से मारता हूँ,
तेरे शरीर में नही गोली दिमाग में मारता हूँ ।।

ये नफरत की आंधी नही, शुरुआत की ब्यार है,
इसे ऊपर वाला नही मैं अपनी फूंक से चलाता हूँ ।।

तू मरता नही मारता है मेरी गोली से मासूमियत को,
क्योकि इसमें मैं बारूद नही में शब्दो का जहर डालता हूँ।।

तू रहता वहीं का वहीं पर, और मेरा काम होता रहता है,
जरूरत पर तुझे भी उसी के साथ जैल में डाल देता हूँ ।।

मेरा नाम बदनाम होता है तो भी मेरा नाम होता है,
मेरी गोली का निशाना केवल दिमाग होता है।।

छीनकर तेरा तुझसे, तू जय जयकार मेरी करता है,
तू मारता, तू मरता है और मुझे महान करता है ।।

तेरा काम,तेरा नाम,तेरा भाई, तेरा पड़ोस,तेरा प्यार
सब कुछ मैंने छीना है ,
तू मदहोश है मेरी अदाओं पर, मैं दीमक तुझे लकड़ी बन के जीना है।।

कशूर मेरा नही सब कुछ तेरा ही है प्यारे,
शैतान वहीं बसता है जहां उसे स्थान मिलता है।।

Language: Hindi
1 Like · 322 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
दशहरा पर्व पर कुछ दोहे :
sushil sarna
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
जितने श्री राम हमारे हैं उतने श्री राम तुम्हारे हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
मैं भी चुनाव लड़ूँगा (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
कुंडलिया छंद
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
मिलने वाले कभी मिलेंगें
मिलने वाले कभी मिलेंगें
Shweta Soni
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
*कभी मिटा नहीं पाओगे गाँधी के सम्मान को*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शुभ को छोड़ लाभ पर
शुभ को छोड़ लाभ पर
Dr. Kishan tandon kranti
गाँव पर ग़ज़ल
गाँव पर ग़ज़ल
नाथ सोनांचली
बात का जबाब बात है
बात का जबाब बात है
शेखर सिंह
वो इश्क की गली का
वो इश्क की गली का
साहित्य गौरव
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
*चिंता और चिता*
*चिंता और चिता*
VINOD CHAUHAN
मां तुम बहुत याद आती हो
मां तुम बहुत याद आती हो
Mukesh Kumar Sonkar
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
मेरी हर इक ग़ज़ल तेरे नाम है कान्हा!
Neelam Sharma
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
कविता- 2- 🌸*बदलाव*🌸
Mahima shukla
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
*जीवन के गान*
*जीवन के गान*
Mukta Rashmi
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
■ दोनों पहलू जीवन के।
■ दोनों पहलू जीवन के।
*प्रणय प्रभात*
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई - पुण्यतिथि - श्रृद्धासुमनांजलि
Shyam Sundar Subramanian
हाइकु (#हिन्दी)
हाइकु (#हिन्दी)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
#करना है, मतदान हमको#
#करना है, मतदान हमको#
Dushyant Kumar
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
फारसी के विद्वान श्री सैयद नवेद कैसर साहब से मुलाकात
Ravi Prakash
प्रभात वर्णन
प्रभात वर्णन
Godambari Negi
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
इश्क़-ए-क़िताब की ये बातें बहुत अज़ीज हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
अगहन कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के
Shashi kala vyas
Loading...