Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

मेरी नजर (मुक्तक)

मेरी नजर

भटक रही थी मेरी नजर जिस हमसफ़र की तलाश में
मैं जी रहा था अब तलक जिस खूब सूरत आस में
देखा तुम्हें नजरें मिली मानों प्यार मेरा मिल गया
कल तलक ब्याकुल था जो दिल अब करार मिल गया

मेरी नजर (मुक्तक)
मदन मोहन सक्सेना

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
187 Views
You may also like:
“ हमर महिसक जन्म दिन पर आशीर्वाद दियोनि ”
DrLakshman Jha Parimal
त्रिशरण गीत
Buddha Prakash
कृपा करो मां दुर्गा
Deepak Kumar Tyagi
नैय्या की पतवार
DESH RAJ
ग़ज़ल / (हिन्दी)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चौबोला छंद (बड़ा उल्लाला) एवं विधाएँ
Subhash Singhai
आँखों में बगावत है ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जीवन जीत हैं।
Dr.sima
मुस्कुराहट
SZUBAIR KHAN KHAN
तेजस्वी यादव
Shekhar Chandra Mitra
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
-------------------हिन्दी दिवस ------------------
Tribhuwan mishra 'Chatak'
Writing Challenge- आरंभ (Beginning)
Sahityapedia
-पहले आत्मसम्मान फिर सबका सम्मान
Seema gupta ( bloger) Gupta
आजादी का दौर
Seema 'Tu hai na'
सट्टेबाज़ों से
Suraj kushwaha
तेरा नसीब बना हूं।
Taj Mohammad
खुश रहे आप आबाद हो
gurudeenverma198
"पुष्प"एक आत्मकथा मेरी
Archana Shukla "Abhidha"
दीपावली २०२२ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चलो प्रेम का दिया जलायें
rkchaudhary2012
नादानियाँ
Anamika Singh
करता कौन जाने
Varun Singh Gautam
राहों के कांटे हटाते ही रहें।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️कभी कभी
'अशांत' शेखर
दाम रिश्तों के
Dr fauzia Naseem shad
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️ज़िंदगी का उसूल ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बहकने दीजिए
surenderpal vaidya
*चीख रहा है (गीतिका)*
Ravi Prakash
Loading...