Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मेरी नजर (मुक्तक)

मेरी नजर

भटक रही थी मेरी नजर जिस हमसफ़र की तलाश में
मैं जी रहा था अब तलक जिस खूब सूरत आस में
देखा तुम्हें नजरें मिली मानों प्यार मेरा मिल गया
कल तलक ब्याकुल था जो दिल अब करार मिल गया

मेरी नजर (मुक्तक)
मदन मोहन सक्सेना

135 Views
You may also like:
बेवफाओं के शहर में कुछ वफ़ा कर जाऊं
Ram Krishan Rastogi
माँ दुर्गे!
अनामिका सिंह
मेहनत
Arjun Chauhan
पत्र का पत्रनामा
Manu Vashistha
💐आत्म साक्षात्कार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुस्कुराहट का नाम है जिन्दगी
अनामिका सिंह
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
गुमनामी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️वो उड़ते रहता है✍️
"अशांत" शेखर
"ज़िंदगी अगर किताब होती"
पंकज कुमार "कर्ण"
जिंदगी में जो उजाले दे सितारा न दिखा।
सत्य कुमार प्रेमी
योगा
Utsav Kumar Aarya
माँ का प्यार
अनामिका सिंह
"लेखनी "
DrLakshman Jha Parimal
Time never returns
Buddha Prakash
जूते जूती की महिमा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
प्रेमानुभूति भाग-1 'प्रेम वियोगी ना जीवे, जीवे तो बौरा होई।’
पंकज 'प्रखर'
समय ।
Kanchan sarda Malu
यदि मेरी पीड़ा पढ़ पाती
Saraswati Bajpai
पथ पर बैठ गए क्यों राही
अनामिका सिंह
चराग़ों को जलाने से
Shivkumar Bilagrami
भगवान विरसा मुंडा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नई सुबह रोज
Prabhudayal Raniwal
मन को मत हारने दो
जगदीश लववंशी
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क नज़रों के सामने जवां होता है।
Taj Mohammad
महान है मेरे पिता
gpoddarmkg
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आज मस्ती से जीने दो
अनामिका सिंह
Loading...