Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Nov 2023 · 1 min read

मेरी जिंदगी

मेरे लिए क्या खुशी ,प्रसन्नता ,आनंद ,संतोष और साज श्रृंगार का समाहार ।
मेरे लिए सब दिन एक जैसे है ,
क्या करवा चौथ ,क्या होली दिवाली ,
और तीज त्यौहार।
औरों को मिले हो चाहे फूल ही फूल ,
मेरे दामन में तो है खार ।
पड़ा है वास्ता सदा मुझे तपते रेगिस्तान से ,
मेरी जिंदगी ने न देखी कभी बसंत बहार ।
जो कुछ तुम्हें दिखता है दोस्तो !
वो तो बस नजर का मात्र धोखा है ।
अन्यथा इस सुनहरे परदे के पीछे है अंधकार ।

Language: Hindi
188 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from ओनिका सेतिया 'अनु '
View all
You may also like:
हम कहां तुम से
हम कहां तुम से
Dr fauzia Naseem shad
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
School ke bacho ko dusre shehar Matt bhejo
Tushar Jagawat
हे नाथ कहो
हे नाथ कहो
Dr.Pratibha Prakash
"कथरी"
Dr. Kishan tandon kranti
अमृत महोत्सव आजादी का
अमृत महोत्सव आजादी का
लक्ष्मी सिंह
श्रम करो! रुकना नहीं है।
श्रम करो! रुकना नहीं है।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
तारों से अभी ज्यादा बातें नहीं होती,
manjula chauhan
"हरी सब्जी या सुखी सब्जी"
Dr Meenu Poonia
2549.पूर्णिका
2549.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
लिखने के आयाम बहुत हैं
लिखने के आयाम बहुत हैं
Shweta Soni
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
तुम गजल मेरी हो
तुम गजल मेरी हो
साहित्य गौरव
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
क्यों तुमने?
क्यों तुमने?
Dr. Meenakshi Sharma
■समयोचित_संशोधन😊😊
■समयोचित_संशोधन😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
काली हवा ( ये दिल्ली है मेरे यार...)
Manju Singh
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
" फ़साने हमारे "
Aarti sirsat
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
तेरे भीतर ही छिपा,
तेरे भीतर ही छिपा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
*कभी अच्छाई पाओगे, मिलेगी कुछ बुराई भी 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
💐प्रेम कौतुक-518💐
💐प्रेम कौतुक-518💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
♥️मां ♥️
♥️मां ♥️
Vandna thakur
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
"गमलों में पौधे लगाते हैं,पेड़ नहीं".…. पौधों को हमेशा अतिरि
पूर्वार्थ
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
Loading...