Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2016 · 1 min read

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही
बहती निशानियाँ शब्दों में

खुशियाँ भी हैं इनमे
तो तोड़ा ग़म भी है
आती है हँसी कुछ चेहरो पर इनसे
इनसे कुछ आँखें नाम भी हैं

ये कहानियाँ नयी नहीं है कोई
ये बस तुम्हारी मेरी ज़िंदगी सी है
रोजाना के पन्नों से भरी हुई
ये एक मासूम किताब सी हैं

मोहब्बत के किस्से भी हैं यही
नफ़रत की जुंग भी दर्ज़ हैं कही
कुछ दिलों का दर्द भी हैं यें
और दर्द का मर्ज़ भी है इनमें

बस दुआ माँगता हूँ यही खुदा से
लिखता जाऊं बिना रुके ये कहानियाँ
लफ़ज़ो की ये नहरें गुजरती राहों से
निकल कर मिलेगी कभी एक सागर में

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही
बिखरी सी यादें लफ़्ज़ों में

–प्रतीक

Language: Hindi
455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जनता  जाने  झूठ  है, नेता  की  हर बात ।
जनता जाने झूठ है, नेता की हर बात ।
sushil sarna
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
शाम सुहानी
शाम सुहानी
लक्ष्मी सिंह
जीवन
जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
World Tobacco Prohibition Day
World Tobacco Prohibition Day
Tushar Jagawat
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
"सफर,रुकावटें,और हौसले"
Yogendra Chaturwedi
डबूले वाली चाय
डबूले वाली चाय
Shyam Sundar Subramanian
प्रेम
प्रेम
Acharya Rama Nand Mandal
शेरे-पंजाब
शेरे-पंजाब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
तू जाएगा मुझे छोड़ कर तो ये दर्द सह भी लेगे
कृष्णकांत गुर्जर
अनघड़ व्यंग
अनघड़ व्यंग
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"ऐ मेरे दोस्त"
Dr. Kishan tandon kranti
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
!!
!! "सुविचार" !!
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
कहां  गए  वे   खद्दर  धारी  आंसू   सदा   बहाने  वाले।
कहां गए वे खद्दर धारी आंसू सदा बहाने वाले।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
2568.पूर्णिका
2568.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कहना ही है
कहना ही है
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
बिहार में दलित–पिछड़ा के बीच विरोध-अंतर्विरोध की एक पड़ताल : DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
जहर मे भी इतना जहर नही होता है,
Ranjeet kumar patre
चाहिए
चाहिए
Punam Pande
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
इन बादलों की राहों में अब न आना कोई
VINOD CHAUHAN
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
हाँ, कल तक तू मेरा सपना थी
gurudeenverma198
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
मेरी बच्ची - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चाँद खिलौना
चाँद खिलौना
SHAILESH MOHAN
#तेवरी / #अफ़सरी
#तेवरी / #अफ़सरी
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...