Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 May 2016 · 1 min read

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही
बहती निशानियाँ शब्दों में

खुशियाँ भी हैं इनमे
तो तोड़ा ग़म भी है
आती है हँसी कुछ चेहरो पर इनसे
इनसे कुछ आँखें नाम भी हैं

ये कहानियाँ नयी नहीं है कोई
ये बस तुम्हारी मेरी ज़िंदगी सी है
रोजाना के पन्नों से भरी हुई
ये एक मासूम किताब सी हैं

मोहब्बत के किस्से भी हैं यही
नफ़रत की जुंग भी दर्ज़ हैं कही
कुछ दिलों का दर्द भी हैं यें
और दर्द का मर्ज़ भी है इनमें

बस दुआ माँगता हूँ यही खुदा से
लिखता जाऊं बिना रुके ये कहानियाँ
लफ़ज़ो की ये नहरें गुजरती राहों से
निकल कर मिलेगी कभी एक सागर में

मेरी कहानियाँ कुछ यूँ ही
बिखरी सी यादें लफ़्ज़ों में

–प्रतीक

Language: Hindi
Tag: कविता
360 Views
You may also like:
कहवां जाइं
Dhirendra Panchal
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग ५]
Anamika Singh
ਆਹਟ
विनोद सिल्ला
सञ्जीवनी साधना
Er.Navaneet R Shandily
तय करो किस ओर हो तुम
Shekhar Chandra Mitra
जिंदगी की फरमाइश - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
नायिका की सुंदरता की उपमाएं
Ram Krishan Rastogi
गणपति
विशाल शुक्ल
खुदा तो हो नही सकता –ग़ज़ल
रकमिश सुल्तानपुरी
हम हैं गुलाम ए मुस्तफा दुनिया फिजूल है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
बेबस पिता
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अनाथ
Kavita Chouhan
तेरी ज़रूरत बन जाऊं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुस्कुराइये.....
Chandra Prakash Patel
✍️माय...!✍️
'अशांत' शेखर
कुछ दर्द भी बे'मिसाल है
Dr fauzia Naseem shad
पाकीज़ा इश्क़
VINOD KUMAR CHAUHAN
तुम्हारे रुख़सार यूँ दमकते
Anis Shah
महाप्रयाण
Shyam Sundar Subramanian
वफ़ा
Seema 'Tu hai na'
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
वक्र यहां किरदार
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
तन्हा ही खूबसूरत हूं मैं।
शक्ति राव मणि
*पचड़ों में पड़ना ही पड़ता है (गीतिका)*
Ravi Prakash
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
किसी को क्या खबर है
shabina. Naaz
तुम हमको भूल ही गए।
Taj Mohammad
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
भुलाना हमारे वश में नहीं
Shyam Singh Lodhi Rajput (LR)
Loading...