Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Dec 2022 · 1 min read

कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।

कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
**************************************

हल्का सा मैं हवा का झोखा, तूफान बनना चाहता हूं,
छोटे छोटे पैरों से मैं, शिखर पर चढ़ना चाहता हूं।
महके जिससे दुनियां सारी, वो गुलशन बनना चाहता हूं,
नन्हा सा मैं पौधा हूँ, उपवन बनना चाहता हूं।।

मानव मानव से प्यार करे, गले मिले सत्कार करे,
जीवन होता बड़ा अनमोल, कर्मो से उद्धार करे।
दिलों से नफरत को मिटाकर, चाहत भरना चाहता हूं।
नन्हा सा मैं पौधा हूं, उपवन बनना चाहता हूं।।

सूरज चमके चंदा चमके, नील गगन में तारे चमके,
नदी पहाड़ और झरने धरा पर आए स्वर्ग बनके।
नीर बचाकर पेड़ लगाकर, हरियाली करना चाहता हूं।।
नन्हा सा मैं पौधा हूं, उपवन बनना चाहता हूं।।

शिक्षा उन्नति का आधार, पुस्तकें ज्ञान का भंडार,
जो भी पढ़ता आगे बढ़ता, सोचो समझो करो विचार।
कलम स्याही हाथ मे लेकर, पढना लिखना चाहता हूं।।
नन्हा सा मैं पौधा हूँ, उपवन बनना चाहता हूं।।

उठे जागे कुछ नया करे, जीवों पर हम दया करें,
समय का पहिया चलता रहता, मन के भाव बयां करें।
दे दूं अपना जीवन सारा, मैं शिक्षक बनना चाहता हूं।।
नन्हा सा मैं पौधा हूं, उपवन बनना चाहता हूं।।

नाम मेरा राजेश है, अर्जुन मैं कहलाता हूँ,
शिक्षा की गांडीव से, मैं शब्दों के तीर चलाता हूँ,
शिक्षा ही दर्पण है, मैं स्वम् दर्पण बनना चाहता हूँ।।
नन्हा सा मैं पौधा हूं, उपवन बनना चाहता हूं।।

*******************📚******************

स्वरचित कविता 📝
✍️रचनाकार:
राजेश कुमार अर्जुन

Language: Hindi
6 Likes · 451 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
मुझे तो मेरी फितरत पे नाज है
नेताम आर सी
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
राम संस्कार हैं, राम संस्कृति हैं, राम सदाचार की प्रतिमूर्ति हैं...
Anand Kumar
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Raju Gajbhiye
2530.पूर्णिका
2530.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
विषय:- विजयी इतिहास हमारा।
Neelam Sharma
"स्मार्ट विलेज"
Dr. Kishan tandon kranti
अब देर मत करो
अब देर मत करो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
रोला छंद
रोला छंद
sushil sarna
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
(8) मैं और तुम (शून्य- सृष्टि )
Kishore Nigam
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
*कविवर शिव कुमार चंदन* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
माँ जब भी दुआएं देती है
माँ जब भी दुआएं देती है
Bhupendra Rawat
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
छत्तीसगढ़िया संस्कृति के चिन्हारी- हरेली तिहार
Mukesh Kumar Sonkar
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
Sonam Puneet Dubey
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
■ मेरा जीवन, मेरा उसूल। 😊
*प्रणय प्रभात*
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
मेरी एक बार साहेब को मौत के कुएं में मोटरसाइकिल
शेखर सिंह
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
सहसा यूं अचानक आंधियां उठती तो हैं अविरत,
Abhishek Soni
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जग जननी
जग जननी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
कब तक जीने के लिए कसमे खायें
पूर्वार्थ
उम्र  बस यूँ ही गुज़र रही है
उम्र बस यूँ ही गुज़र रही है
Atul "Krishn"
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
दिन में तुम्हें समय नहीं मिलता,
Dr. Man Mohan Krishna
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
तुझे पाने की तलाश में...!
तुझे पाने की तलाश में...!
singh kunwar sarvendra vikram
मन के द्वीप
मन के द्वीप
Dr.Archannaa Mishraa
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
44...Ramal musamman maKHbuun mahzuuf maqtuu.a
sushil yadav
ख़्वाब
ख़्वाब
Monika Verma
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
आप पाएंगे सफलता प्यार से।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...