Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Feb 2024 · 1 min read

11, मेरा वजूद

अक्सर निहारती हूँ…
खुद को आईने में,
आज देखा तो…
पलभर के लिए लगा…
मैं कहाँ खो गई?
वक़्त की तपीश से पके बालों
को..
अक्सर रंगों से ढ़कती रही,
पर चेहरे की झुर्रियाँ….
कहीं हल्की तो कहीं गहरी हो गई,
ऐसे लगा मानो मैं इनमें अपना वजूद खो गई,
मासूमियत, चंचलता और
अल्हड़ता खोने से मै मायूस हो
गई।
पलभर के लिए तो मैं…
बहुत घबराई,
अगले पल टटोला अपने ही अन्तर्मन को,
मासूमियत परिपक्वता में परिवर्तित हुई और…
चंचलता यही छिपी रह गई।
फिर लगा…
चेहरे की झुर्रियाँ धूमिल हो गई,
और …
अपनी ही मुस्कान में ‘मधु’
“अपना वजूद” पा गई फिर से…
आईने में खुद को निहारती ही रह
गई!!

1 Like · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr .Shweta sood 'Madhu'
View all
You may also like:
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
संघर्ष जीवन हैं जवानी, मेहनत करके पाऊं l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
समल चित् -समान है/प्रीतिरूपी मालिकी/ हिंद प्रीति-गान बन
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वनमाली
वनमाली
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2529.पूर्णिका
2529.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
14, मायका
14, मायका
Dr .Shweta sood 'Madhu'
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
जबसे तुमसे लौ लगी, आए जगत न रास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
नया साल
नया साल
अरशद रसूल बदायूंनी
प्रीतम के दोहे
प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
■ एक वीडियो के साथ तमाम लिंक।
■ एक वीडियो के साथ तमाम लिंक।
*प्रणय प्रभात*
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
समय का खेल
समय का खेल
Adha Deshwal
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
*कुछ गुणा है कुछ घटाना, और थोड़ा जोड़ है (हिंदी गजल/ग
Ravi Prakash
Teacher
Teacher
Rajan Sharma
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
।।अथ सत्यनारायण व्रत कथा पंचम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लाल उठो!!
लाल उठो!!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
बम
बम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
छोटे बच्चों की ऊँची आवाज़ को माँ -बाप नज़रअंदाज़ कर देते हैं पर
DrLakshman Jha Parimal
चैन से जिंदगी
चैन से जिंदगी
Basant Bhagawan Roy
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
जब तलक था मैं अमृत, निचोड़ा गया।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
सफर पर है आज का दिन
सफर पर है आज का दिन
Sonit Parjapati
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
सवाल~
सवाल~
दिनेश एल० "जैहिंद"
किसी का सब्र मत आजमाओ,
किसी का सब्र मत आजमाओ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*अलविदा तेईस*
*अलविदा तेईस*
Shashi kala vyas
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...