Oct 11, 2016 · 1 min read

मेरा रावण मित्र

आज हमारे एक लेख पर कियामित्र ने प्रश्न
क्यों इतना गंभीर लेख ये दशहरे का है जश्न
हमने कहा कौन रोकता,जश्न तुम मनाओ
दशहरे का पर्व है रावण को मार गिराओ
बोले अवगुणो का रावण नही हममे अब तक
मै ईमानदार,मै सदाचारी ,मै मात पिता का सेवक
मै दानी,मै परमार्थी,मै बडा आस्तिक
नही देखता परस्त्री ,ना करता मदिरा सेवन
हम बोले मै,मै की तूती जो इतना बजा रहे है
अभिमान का अवगुण हमको आप दिखा रहे है
सारे सदगुणो को अभिमान से ढक रहे है
देखो धीरे धीरे रावण आप बन रहे है
मना लो मित्र आज तुम भी ये पावन त्योहार
कर दो आज अपने अहम के रावण का संहार

159 Views
You may also like:
जिंदगी और करार
ananya rai parashar
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
तुम मेरे वो तुम हो...
Sapna K S
पिता बना हूं।
Taj Mohammad
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
An abeyance
Aditya Prakash
राम
Saraswati Bajpai
मातृदिवस
Dr Archana Gupta
मोबाइल सन्देश (दोहा)
N.ksahu0007@writer
मुझे चाहत हैं तेरी.....
Dr. Alpa H.
सलाम
Shriyansh Gupta
हो रही है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सेतुबंध रामेश्वर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कवि का परिचय( पं बृजेश कुमार नायक का परिचय)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"ज़ुबान हिल न पाई"
अमित मिश्र
**यादों की बारिशने रुला दिया **
Dr. Alpa H.
वह खूब रोए।
Taj Mohammad
बेजुबान
Anamika Singh
दुनिया पहचाने हमें जाने के बाद...
Dr. Alpa H.
गुरु तुम क्या हो यार !
The jaswant Lakhara
पिता
Kanchan Khanna
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
इंतजार मत करना
Rakesh Pathak Kathara
'बेदर्दी'
Godambari Negi
अश्रु देकर खुद दिल बहलाऊं अरे मैं ऐसा इंसान नहीं
VINOD KUMAR CHAUHAN
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H.
पिता खुशियों का द्वार है।
Taj Mohammad
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
Loading...