Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Jun 2019 · 1 min read

मेरा प्यारा भारत देश —आर के रस्तोगी

हाथ हमारे,साथ तुम्हारे |
आओ मिलकर देश सवारें ||
कोई इसको बाट न सके |
हम सब इसके रखवारे ||

जो इसको कुद्रष्टि से देखे |
उसकी दोंनो आँखे निकाले ||
इसकी सदा हम रक्षा करेगे |
चाहे पावों में पड जाये छाले ||

ये हमारा प्यारा भारत देश है |
इसको अपने लहू से है सीचा ||
जो इसके बटवारे की बात करे |
उसको देश से सदा बाहर खीचा ||

कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है |
इससे धारा 370 अब हम हटाये ||
जो कश्मीरी पंडित मार भगाये थे |
उनको फिर से कश्मीर में बसाये ||

उत्तर में हिमालय रखता रखवाली |
दक्षिण में कर रहा है सागर पखार ||
पूर्व में हमारा अरुणाचल बसा है |
पश्चिम में पाक को देते फटकार ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

Language: Hindi
403 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
कुछ भी नहीं हमको फायदा, तुमको अगर हम पा भी ले
gurudeenverma198
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
आसान नहीं होता घर से होस्टल जाना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
"कारोबार"
Dr. Kishan tandon kranti
बीजः एक असीम संभावना...
बीजः एक असीम संभावना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/133.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कैसा फसाना है
कैसा फसाना है
Dinesh Kumar Gangwar
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
*जेठ तपो तुम चाहे जितना, दो वृक्षों की छॉंव (गीत)*
Ravi Prakash
कामयाब लोग,
कामयाब लोग,
नेताम आर सी
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
क्या अच्छा क्या है बुरा,सबको है पहचान।
Manoj Mahato
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
प्रेम हो जाए जिससे है भाता वही।
सत्य कुमार प्रेमी
Kabhi kitabe pass hoti hai
Kabhi kitabe pass hoti hai
Sakshi Tripathi
*हम पर अत्याचार क्यों?*
*हम पर अत्याचार क्यों?*
Dushyant Kumar
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
दो अक्षर में कैसे बतला दूँ
Harminder Kaur
Red is red
Red is red
Dr. Vaishali Verma
पढ़ना जरूर
पढ़ना जरूर
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
संसार का स्वरूप(3)
संसार का स्वरूप(3)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*कंचन काया की कब दावत होगी*
*कंचन काया की कब दावत होगी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
अच्छा नहीं होता बे मतलब का जीना।
Taj Mohammad
■ आज का आख़िरी शेर-
■ आज का आख़िरी शेर-
*प्रणय प्रभात*
बेशर्मी के कहकहे,
बेशर्मी के कहकहे,
sushil sarna
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
फाल्गुन वियोगिनी व्यथा
Er.Navaneet R Shandily
* पहचान की *
* पहचान की *
surenderpal vaidya
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
পৃথিবী
পৃথিবী
Otteri Selvakumar
सोच
सोच
Neeraj Agarwal
लौट कर न आएगा
लौट कर न आएगा
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
जीवन के अंतिम दिनों में गौतम बुद्ध
कवि रमेशराज
धर्म पर हंसते ही हो या फिर धर्म का सार भी जानते हो,
धर्म पर हंसते ही हो या फिर धर्म का सार भी जानते हो,
Anamika Tiwari 'annpurna '
Loading...