Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2022 · 1 min read

मेरा पेड़

कुछ समय पहले में कुछ बीज मैं लाया था
अपने घर के आंगन में बीज को लगाया था
बच्चों जैसे पाला पानी देकर बढ़ाया उसको
बढ़ा हुआ जब वह उसने अपनी रंगत दिखाई
एक बच्चा भी नहीं आता था मेरे आंगन में
अब दिन भर चहक रहा आंगन मेरा आंगन मेरा!!
बड़े बुजुर्ग आकर बैठ जाते किससे अलग सुनाते
प्यारी प्यारी बातें करते बात पते की बताते
मीठे फल भी दे रहा ऐसी रंगत उसने दिखाई
आने लगे आंगन में पक्षी ऐसी रंगत दिखाई
अब दिन भर चहक रहा आंगन मेरा आंगन मेरा!!

Language: Hindi
1 Like · 275 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
श्याम-राधा घनाक्षरी
श्याम-राधा घनाक्षरी
Suryakant Dwivedi
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
जी करता है , बाबा बन जाऊं - व्यंग्य
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
उसने कहा....!!
उसने कहा....!!
Kanchan Khanna
आने वाला वर्ष भी दे हमें भरपूर उत्साह
आने वाला वर्ष भी दे हमें भरपूर उत्साह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
कुछ रातों के घने अँधेरे, सुबह से कहाँ मिल पाते हैं।
Manisha Manjari
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Ashwani Kumar Jaiswal
कलयुगी दोहावली
कलयुगी दोहावली
Prakash Chandra
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
पहला प्यार
पहला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
महाशिवरात्रि
महाशिवरात्रि
Ram Babu Mandal
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
निकला है हर कोई उस सफर-ऐ-जिंदगी पर,
डी. के. निवातिया
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
जिंदगी में संतुलन खुद की कमियों को समझने से बना रहता है,
Seema gupta,Alwar
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
आपको दिल से हम दुआ देंगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
तुमको सोचकर जवाब दूंगा
gurudeenverma198
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
माँ सिर्फ़ वात्सल्य नहीं
Anand Kumar
💐प्रेम कौतुक-250💐
💐प्रेम कौतुक-250💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्रतिकार
प्रतिकार
Shekhar Chandra Mitra
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
तुम हासिल ही हो जाओ
तुम हासिल ही हो जाओ
हिमांशु Kulshrestha
*नज़्म*
*नज़्म*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रक्षा -बंधन
रक्षा -बंधन
Swami Ganganiya
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
आज भी मुझे मेरा गांव याद आता है
Praveen Sain
2598.पूर्णिका
2598.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
" मेरी प्यारी नींद"
Dr Meenu Poonia
गीतिका-
गीतिका-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
।। श्री सत्यनारायण कथा द्वितीय अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
तरुण सिंह पवार
Loading...