Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2023 · 1 min read

मेरा नसीब

तुम मुझे छोड़कर चले जाओगे
जानता हूं वापिस लौटकर नहीं आओगे
जब लिखा है यही नसीब में मेरे
फिर तुम मेरी ज़िंदगी में क्यों आओगे

काश वो दिन न ही आए
जब तू मेरे सामने आ जाए
खो न जाए ये दीवाना तेरी आंखों में
बेचारा, बेवजह मारा न जाए

जानता हूं नशा तेरे इश्क़ का
चढ़ेगा तो फिर उतरेगा नहीं
रोग लगाकर इश्क़ का मुझको
तू फिर नज़र आएगा नहीं

समझा ले हे प्रभु! मेरे दिल को
वरना बहुत रोएगा ये ज़िंदगीभर
देखकर चंद पलों का ख़्वाब
तरसेगा वो उसे पाने को जिंदगीभर

माना आसान नहीं है
दीवानों को समझाना
मेरे प्रभु! तुझे तो आता है
हर किसी को बहलाना।

7 Likes · 1 Comment · 2358 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
रूपमाला (मदन ) छंद विधान सउदाहरण
Subhash Singhai
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
मुश्किल जब सताता संघर्ष बढ़ जाता है🌷🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीनते भी होती है
जीनते भी होती है
SHAMA PARVEEN
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
योग इक्कीस जून को,
योग इक्कीस जून को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
कवि दीपक बवेजा
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
कभी-कभी वक़्त की करवट आपको अचंभित कर जाती है.......चाहे उस क
Seema Verma
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
जागृति और संकल्प , जीवन के रूपांतरण का आधार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
मेरे चेहरे से मेरे किरदार का पता नहीं चलता और मेरी बातों से
Ravi Betulwala
पिता की आंखें
पिता की आंखें
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
गीत
गीत
Shweta Soni
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
कविता// घास के फूल
कविता// घास के फूल
Shiva Awasthi
"कैसे कह दें"
Dr. Kishan tandon kranti
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
आज यूँ ही कुछ सादगी लिख रही हूँ,
Swara Kumari arya
भारत अपना देश
भारत अपना देश
प्रदीप कुमार गुप्ता
love or romamce is all about now  a days is only physical in
love or romamce is all about now a days is only physical in
पूर्वार्थ
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
बारिश पड़ी तो हम भी जान गए,
manjula chauhan
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
बाहर से खिलखिला कर हंसता हुआ
Ranjeet kumar patre
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
हैवानियत के पाँव नहीं होते!
Atul "Krishn"
क्या कहूँ
क्या कहूँ
Ajay Mishra
रोना भी जरूरी है
रोना भी जरूरी है
Surinder blackpen
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
भर लो नयनों में नीर
भर लो नयनों में नीर
Arti Bhadauria
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
*थोड़ा समय नजदीक के हम, पुस्तकालय रोज जाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
2858.*पूर्णिका*
2858.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"एक विचार को प्रचार-प्रसार की उतनी ही आवश्यकता होती है
शेखर सिंह
Loading...