Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Oct 2016 · 1 min read

मेरा ठिकाना-७—मुक्तक—डी के निवातिया

तेरे दिल के खंडहर में पड़ा है फटा-टुटा बिछाना
कल होते थे जहाँ पल गुलजार, आज है वीराना
अल्फाज लंगड़े हो गये, जज्बातो की ज़ुबाँ गयी
देह तो बेजान है रूह तलाश रही है मेरा ठिकाना !!
!
!
!______डी के निवातियाँ ____!

Language: Hindi
240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नवगीत : मौन
नवगीत : मौन
Sushila joshi
तस्मात् योगी भवार्जुन
तस्मात् योगी भवार्जुन
सुनीलानंद महंत
करवाचौथ
करवाचौथ
Surinder blackpen
*गाड़ी निर्धन की कहो, साईकिल है नाम (कुंडलिया)*
*गाड़ी निर्धन की कहो, साईकिल है नाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
* लोकतंत्र महान है *
* लोकतंत्र महान है *
surenderpal vaidya
पंचवर्षीय योजनाएँ
पंचवर्षीय योजनाएँ
Dr. Kishan tandon kranti
स्नेह का बंधन
स्नेह का बंधन
Dr.Priya Soni Khare
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
अंतर्राष्ट्रीय जल दिवस
डॉ.सीमा अग्रवाल
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
झरोखों से झांकती ज़िंदगी
Rachana
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
आंखों में भरी यादें है
आंखों में भरी यादें है
Rekha khichi
मेरा लड्डू गोपाल
मेरा लड्डू गोपाल
MEENU SHARMA
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
जिनकी बातों मे दम हुआ करता है
शेखर सिंह
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
दुर्लभ हुईं सात्विक विचारों की श्रृंखला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
" आज़ का आदमी "
Chunnu Lal Gupta
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
ज़िन्दगी चल नए सफर पर।
Taj Mohammad
संवेदना मर रही
संवेदना मर रही
Ritu Asooja
अलसाई सी तुम
अलसाई सी तुम
Awadhesh Singh
शिछा-दोष
शिछा-दोष
Bodhisatva kastooriya
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
हिन्दी की गाथा क्यों गाते हो
Anil chobisa
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
चांद सितारों सी मेरी दुल्हन
Mangilal 713
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
हर एक मंजिल का अपना कहर निकला
कवि दीपक बवेजा
ऐ वतन....
ऐ वतन....
Anis Shah
🙅सावधान🙅
🙅सावधान🙅
*प्रणय प्रभात*
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
Dr.sima
समाज सुधारक
समाज सुधारक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माना   कि  बल   बहुत  है
माना कि बल बहुत है
Paras Nath Jha
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
मित्रता:समाने शोभते प्रीति।
Acharya Rama Nand Mandal
Image at Hajipur
Image at Hajipur
Hajipur
Loading...