Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

मेरा ठिकाना -६—मुक्तक—डी. के. निवातियाँ

हर किसी का होता है जहान में एक ठिकाना
राहे भले हो जुदा-जुदा मंजिल सभी को पाना
उम्र बिता देता है हर कोई ये पहेली बुझाने में
ना जान पाता कोई कि कहाँ है मेरा ठिकाना !!
!
!
!
@_____डी. के. निवातियाँ ____@

Language: Hindi
4 Comments · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डी. के. निवातिया
View all
You may also like:
जब-जब मेरी क़लम चलती है
जब-जब मेरी क़लम चलती है
Shekhar Chandra Mitra
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
जिन्दा रहे यह प्यार- सौहार्द, अपने हिंदुस्तान में
gurudeenverma198
अधूरे सवाल
अधूरे सवाल
Shyam Sundar Subramanian
*गुरुग्राम में चयनित-स्थल विवाह (डेस्टिनेशन वेडिंग) 2,3,4 फर
*गुरुग्राम में चयनित-स्थल विवाह (डेस्टिनेशन वेडिंग) 2,3,4 फर
Ravi Prakash
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
विषय - प्रभु श्री राम 🚩
Neeraj Agarwal
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सफर पे निकल गये है उठा कर के बस्ता
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"सुप्रभात "
Yogendra Chaturwedi
■ साल की समीक्षा
■ साल की समीक्षा
*Author प्रणय प्रभात*
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
2968.*पूर्णिका*
2968.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
National YOUTH Day
National YOUTH Day
Tushar Jagawat
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कृपया सावधान रहें !
कृपया सावधान रहें !
Anand Kumar
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
चचा बैठे ट्रेन में [ व्यंग्य ]
कवि रमेशराज
पुस्तकें
पुस्तकें
नन्दलाल सुथार "राही"
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
फ़ेहरिस्त रक़ीबों की, लिखे रहते हो हाथों में,
Shreedhar
विनती
विनती
Kanchan Khanna
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
पीड़ा भी मूक थी
पीड़ा भी मूक थी
Dr fauzia Naseem shad
उज्ज्वल भविष्य हैं
उज्ज्वल भविष्य हैं
TARAN VERMA
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
वो सुहाने दिन
वो सुहाने दिन
Aman Sinha
सुरक्षित भविष्य
सुरक्षित भविष्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
उपमान (दृृढ़पद ) छंद - 23 मात्रा , ( 13- 10) पदांत चौकल
Subhash Singhai
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
-- अंधभक्ति का चैम्पियन --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
किसी को फर्क भी नही पड़ता
किसी को फर्क भी नही पड़ता
पूर्वार्थ
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Writing Challenge- ईर्ष्या (Envy)
Sahityapedia
प्रेम और आदर
प्रेम और आदर
ओंकार मिश्र
Loading...