Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jan 2024 · 1 min read

मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम। मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम। ❤️

मेरा जीवन,मेरी सांसे सारा तोहफा तेरे नाम।
मौसम की रंगीन मिज़ाजी,पछुवा पुरवा तेरे नाम।
❤️
सुर्ख गुलाबों का गुलदस्ता आ जा तुझको पेश करूं।
सारी बगिया सारा बगीचा सारा दरीचा तेरे नाम।
❤️
फूलों की खुशबू, चांद,चांदनी,बहती रातें,तेरी बात।
तुझ से मिलन का हर एक लम्हा,सारा वसीला तेरे नाम।
❤️
शाम में अवध और सुबहे बनारस जैसे मन को भाता है।
सुबह सवेरे पहली रश्मि पहला उजाला तेरे नाम।
❤️
बर्गे गुल से होंट तुम्हारे,हिरनी जैसी आंखें हैं।
झील में खिलता फूल कमल का तेरे नाम।
❤️
तेरी यादें तेरी बातें ला महदूद समंदर है।
चाहत का इकलौता जजीरा तेरे नाम।
❤️
तेरे साथ गुजारे जितने सारे मंज़र अच्छे है।
सारे मंज़र उनका जलवा तेरे नाम।
❤️❤️❤️❤️❤️❤️
Dr SAGHEER AHMAD SIDDIQUI KHAIRA BAZAR BAHRAICH

Language: Hindi
5 Comments · 107 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
You come in my life
You come in my life
Sakshi Tripathi
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
मेरे पास तुम्हारी कोई निशानी-ए-तस्वीर नहीं है
शिव प्रताप लोधी
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
बॉर्डर पर जवान खड़ा है।
Kuldeep mishra (KD)
अरमानों की भीड़ में,
अरमानों की भीड़ में,
Mahendra Narayan
सफ़ारी सूट
सफ़ारी सूट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
प्रकृति भी तो शांत मुस्कुराती रहती है
ruby kumari
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
लोककवि रामचरन गुप्त का लोक-काव्य +डॉ. वेदप्रकाश ‘अमिताभ ’
कवि रमेशराज
"जवाब"
Dr. Kishan tandon kranti
सफर
सफर
Ritu Asooja
राह
राह
Neeraj Mishra " नीर "
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
** गर्मी है पुरजोर **
** गर्मी है पुरजोर **
surenderpal vaidya
बंद करो अब दिवसीय काम।
बंद करो अब दिवसीय काम।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Indulge, Live and Love
Indulge, Live and Love
Dhriti Mishra
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
*स्वयंवर (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
हर किसी पर नहीं ज़ाहिर होते
Shweta Soni
मतदान करो
मतदान करो
TARAN VERMA
Learn self-compassion
Learn self-compassion
पूर्वार्थ
दुर्गा माँ
दुर्गा माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3006.*पूर्णिका*
3006.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी एक चादर है
जिंदगी एक चादर है
Ram Krishan Rastogi
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
■ इनका इलाज ऊपर वाले के पास हो तो हो। नीचे तो है नहीं।।
*प्रणय प्रभात*
मैं लिखता हूँ
मैं लिखता हूँ
DrLakshman Jha Parimal
मनीआर्डर से ज्याद...
मनीआर्डर से ज्याद...
Amulyaa Ratan
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
संस्मरण #पिछले पन्ने (11)
Paras Nath Jha
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
दौरे-हजीर चंद पर कलमात🌹🌹🌹🌹🌹🌹
shabina. Naaz
Loading...