Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

मेरा गुरूर है पिता

मेरा हर्ष मेरा गर्व या कहूॅ॑ मेरा गुरूर है पिता
मेरी सजल इन अंखियों का कोहिनूर है पिता
मेरे पिता को फक्र मुझ पर और फिक्र है मेरी
इसीलिए मैं कहती हूॅ॑ कि मेरा गुरूर है पिता-इसीलिए
बचपन में बेटे की तरह मुझको खिलाया है
ऊॅ॑गली पकड़ पिता ने ही चलना सिखाया है-इसीलिए
पिता से पूछें कोई बेटा या बिटिया से प्यार है
कहते हैं बेटे से घर है मगर बिटिया संसार है-इसीलिए
मेरे पिता कहते थे मुझे बिटिया की चाहत है
बेटा चिराग है सुनो मगर बिटिया से रौनक है-इसीलिए
कहते हैं बिटिया तुम भाग्य को साथ लाई थी
अपने पिता की जॉब की तूॅ॑ सौगात लाई थी-इसीलिए
मेरे पिता ने मुझको आज काबिल बनाया है
बेटे की तरह परवरिश दे हौंसला जगाया है -इसीलिए
सब हैं बहुत प्रसन्न आज ये शादी की बेला है
बिटिया की विदाई पर पिता देखो अकेला है-इसीलिए
लाडली बिटिया को खुद ही डोली बिठा रहे
अपने गले लगा वो खुद के हैं आंसू छिपा रहे-इसीलिए
‘V9द’पिता भगवान ना सही फ़रिश्ते जरुर हैं
बिटिया के लिए इसीलिए अंखियों का नूर हैं -इसीलिए

2 Likes · 71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
हमारे प्यार का आलम,
हमारे प्यार का आलम,
Satish Srijan
मतदान और मतदाता
मतदान और मतदाता
विजय कुमार अग्रवाल
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
रिशतों का उचित मुल्य 🌹🌹❤️🙏❤️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
लग जाए गले से गले
लग जाए गले से गले
Ankita Patel
कुंडलिया छंद *
कुंडलिया छंद *
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
Shyam Sundar Subramanian
ज़िंदगी आईने के
ज़िंदगी आईने के
Dr fauzia Naseem shad
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
झूठा फिरते बहुत हैं,बिन ढूंढे मिल जाय।
Vijay kumar Pandey
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
सुर्ख चेहरा हो निगाहें भी शबाब हो जाए ।
Phool gufran
फूलों की ख़ुशबू ही,
फूलों की ख़ुशबू ही,
Vishal babu (vishu)
*शिव शक्ति*
*शिव शक्ति*
Shashi kala vyas
बच्चे बूढ़े और जवानों में
बच्चे बूढ़े और जवानों में
विशाल शुक्ल
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
सपनों का राजकुमार
सपनों का राजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
यही रात अंतिम यही रात भारी।
यही रात अंतिम यही रात भारी।
Kumar Kalhans
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
चुन्नी सरकी लाज की,
चुन्नी सरकी लाज की,
sushil sarna
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
जिन्दगी में फैसले अपने दिमाग़ से लेने चाहिए न कि दूसरों से पू
अभिनव अदम्य
पूजा
पूजा
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"तवा और औरत"
Dr. Kishan tandon kranti
Mukkadar bhi kya chij h,
Mukkadar bhi kya chij h,
Sakshi Tripathi
💐प्रेम कौतुक-428💐
💐प्रेम कौतुक-428💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
लीजिए प्रेम का अवलंब
लीजिए प्रेम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कविता
कविता
Shiva Awasthi
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
खुदा ने तुम्हारी तकदीर बड़ी खूबसूरती से लिखी है,
Sukoon
Jeevan ka saar
Jeevan ka saar
Tushar Jagawat
रमेशराज के शिक्षाप्रद बालगीत
रमेशराज के शिक्षाप्रद बालगीत
कवि रमेशराज
Loading...