Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2016 · 1 min read

मेरा क्या कसूर

मैं आपसे पूछना चाहती हूँ मेरा कसूर क्या है।
आपकी दुनिया का ये अजीब दस्तूर क्या है।

आप नहीं पसंद करते हो मुझे तो जन्म क्यों देते हो?
जिंदगी भर का दर्द मुझे देकर खुद भी क्यों लेते हो?

बेटों के बराबर नहीं मानते तो पढ़ाते क्यों हो?
बेटों की तरह ही मुझसे नौकरी करवाते क्यों हो?

अपने घर मेरे जन्म लेने से आपको अपार दुःख होता है।
पर दुसरे घर से बहु बनाकर लाने में क्यों सुख होता है?

मुझे तो कम पढ़ा लिखा कर आप दुसरे के घर भेज देते हो।
पर दुसरे की नौकरी लगी हुई ही बेटी का रिश्ता क्यों लेते हो?

सच में दोगलेपन और ओछेपन की भी एक हद होती है।
जब करते हो बेटा बेटी में फर्क तो ये धरती भी रोती है।

आज आपको अपनी सोच बदलने की सख्त जरुरत है।
माँ, बेटी, बहन, पत्नी से ही ये दुनिया इतनी खुबसूरत है।

माँ, बहन, पत्नी मेरे ही रूप हैं फिर मुझसे इतनी नफरत करते क्यों हो।
“”सुलक्षणा”” माँ, बहन, पत्नी चाहिए पर बेटी से इतना डरते क्यों हो?

1 Like · 645 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
दूर तक आ गए मुश्किल लग रही है वापसी
गुप्तरत्न
"पत्नी और माशूका"
Dr. Kishan tandon kranti
2559.पूर्णिका
2559.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*सबके मन में आस है, चलें अयोध्या धाम (कुंडलिया )*
*सबके मन में आस है, चलें अयोध्या धाम (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
थी हवा ख़ुश्क पर नहीं सूखे - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
दुनियां में सब नौकर हैं,
दुनियां में सब नौकर हैं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
अपनी स्टाईल में वो,
अपनी स्टाईल में वो,
Dr. Man Mohan Krishna
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
युद्ध नहीं जिनके जीवन में,
Sandeep Mishra
कल की चिंता छोड़कर....
कल की चिंता छोड़कर....
जगदीश लववंशी
वो दौर अलग था, ये दौर अलग है,
वो दौर अलग था, ये दौर अलग है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
अभी जाम छल्का रहे आज बच्चे, इन्हें देख आँखें फटी जा रही हैं।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Ahsas tujhe bhi hai
Ahsas tujhe bhi hai
Sakshi Tripathi
प्राची संग अरुणिमा का,
प्राची संग अरुणिमा का,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
शादी शुदा कुंवारा (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
मर्द का दर्द
मर्द का दर्द
Anil chobisa
मां
मां
Dr.Priya Soni Khare
गीता हो या मानस
गीता हो या मानस
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
दोस्ती ना कभी बदली है ..न बदलेगी ...बस यहाँ तो लोग ही बदल जा
DrLakshman Jha Parimal
ऐ सुनो
ऐ सुनो
Anand Kumar
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
अतीत के पन्ने (कविता)
अतीत के पन्ने (कविता)
sandeep kumar Yadav
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
Dard-e-madhushala
Dard-e-madhushala
Tushar Jagawat
एकाकीपन
एकाकीपन
लक्ष्मी सिंह
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
नज़्म/गीत - वो मधुशाला, अब कहाँ
अनिल कुमार
मनुष्य को
मनुष्य को
ओंकार मिश्र
Loading...