Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2024 · 1 min read

मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया

मेरा कान्हा जो मुझसे जुदा हो गया
द्वारिका में कन्हैया खुदा हो गया
नींद रातों को आंखों में आती नही
श्याम मुरली बजैया कहां खो गया
गोपिका आज पत्थर की मूरत बनी
राधे – “कृष्णा” दिवानी समंदर हुई
हार थक सी गई खुद ही खंजर हुई
देख उनकी दशा बृज ये बंजर हुई
याद बांके बिहारी की जाती नही
श्याम रास रचैया कहां खो गया
आज ईश्वर पत्थर की मूरत बना
आज प्राण को तारा जुदा हो गया

494 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
💐अज्ञात के प्रति-116💐
💐अज्ञात के प्रति-116💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
खोने के लिए कुछ ख़ास नहीं
The_dk_poetry
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
मेरे खतों को अगर,तुम भी पढ़ लेते
gurudeenverma198
*देना इतना आसान नहीं है*
*देना इतना आसान नहीं है*
Seema Verma
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
Success_Your_Goal
Success_Your_Goal
Manoj Kushwaha PS
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
रिश्ते
रिश्ते
Ram Krishan Rastogi
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/203. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सत्य से विलग न ईश्वर है
सत्य से विलग न ईश्वर है
Udaya Narayan Singh
मां - स्नेहपुष्प
मां - स्नेहपुष्प
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मिलेट/मोटा अनाज
मिलेट/मोटा अनाज
लक्ष्मी सिंह
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
क़दर करना क़दर होगी क़दर से शूल फूलों में
आर.एस. 'प्रीतम'
शक्ति स्वरूपा कन्या
शक्ति स्वरूपा कन्या
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
किसी के दिल में चाह तो ,
किसी के दिल में चाह तो ,
Manju sagar
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
ज़हन खामोश होकर भी नदारत करता रहता है।
Phool gufran
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
रिश्ते सम्भालन् राखियो, रिश्तें काँची डोर समान।
Anil chobisa
न किसी से कुछ कहूँ
न किसी से कुछ कहूँ
ruby kumari
*संतुष्ट मन*
*संतुष्ट मन*
Shashi kala vyas
गुज़िश्ता साल
गुज़िश्ता साल
Dr.Wasif Quazi
डाकिया डाक लाया
डाकिया डाक लाया
Paras Nath Jha
*सरस रामकथा*
*सरस रामकथा*
Ravi Prakash
*** कभी-कभी.....!!! ***
*** कभी-कभी.....!!! ***
VEDANTA PATEL
"सुधार"
Dr. Kishan tandon kranti
'मौन का सन्देश'
'मौन का सन्देश'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
🌹मां ममता की पोटली
🌹मां ममता की पोटली
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...