Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 2 min read

मेरा अनोखा अनुभव

आज जब हम गंगा दर्शन को जा रहे थे,
पैर न जाने क्यों इतना घबरा रहे थे,
महसूस हो रही थी एक अजीब सी थकान,
मन ढूंढ रहा था बस बैठने का कोई स्थान,
कुछ दूर तक हमने घुमाई निगाहें,
एक बूढा व्यक्ति थकावट से भर रहा था आहें,
शायद उसको किसी सवारी की थी तलाश,
कोई बैठेगा उसके रिक्शे पे उसको थी आस,
पुछा हमने उसके पास जाकर,
क्या लाओगे हमे गंगा घाट घुमाकर,
मानो उस बुजुर्ग को मेरा ही था इन्तजार,
और वो हो गया हमे ले जाने को तैयार,
बहुत छोटी सी रकम मांगी उसने हमे मंजिल तक ले जाने की,
और हमे भी कुछ ज्यादा ही परेशानी थी आने जाने की,
बैठ गए हम उसके रिक्शे में अपनी थकान को मिटाने के लिए,
और वो रिक्शा खींच रहा था बस थोड़े से पैसे कमाने के लिए,
कुछ दूर चलते चलते हमे हुआ ये अहसास,
की हम अनजाने में न जाने करते हैं कितने गलत काम,
हम सिर्फ अपने शरीर को साथ लेकर चल नही पा रहे थे,
और इस बुजुर्ग को हम अनजाने में जाने कितना सता रहे थे,
पसीने में तर बतर जब वो बुजुर्ग होने लगा,
मानो उसको देखकर मेरा दिल कितना रोने लगा,
पहुचकर मंजिल तक मैंने उससे तय की हुई रकम निकाली,
और उसने मुस्कुराते हुए उन पैसो पे निगाह डाली,
मानो वो कितना खुश था उसे पाकर,
मैंने भी रकम को दिया उसे थोड़ा बढाकर,
इस पूरी घटना ने मुझे इतना कुछ सीखा दिया,
मेरी साड़ी थकान को दो पल में मिटा दिया,..RASHMI SHUKLA

Language: Hindi
Tag: लेख
1468 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from RASHMI SHUKLA
View all
You may also like:
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
मैं मुश्किलों के आगे कम नहीं टिकता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हाथों ने पैरों से पूछा
हाथों ने पैरों से पूछा
Shubham Pandey (S P)
यकीन
यकीन
Sidhartha Mishra
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
*जनसेवा अब शब्दकोश में फरमाती आराम है (गीतिका)*
Ravi Prakash
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
इंसान समाज में रहता है चाहे कितना ही दुनिया कह ले की तुलना न
पूर्वार्थ
மழையின் சத்தத்தில்
மழையின் சத்தத்தில்
Otteri Selvakumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
हां मैं उत्तर प्रदेश हूं,
Anand Kumar
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
आज इस देश का मंजर बदल गया यारों ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अंजानी सी गलियां
अंजानी सी गलियां
नेताम आर सी
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
ग़ज़ल -1222 1222 122 मुफाईलुन मुफाईलुन फऊलुन
Neelam Sharma
आजमाइश
आजमाइश
AJAY AMITABH SUMAN
धरा और इसमें हरियाली
धरा और इसमें हरियाली
Buddha Prakash
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Mahender Singh
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
है कश्मकश - इधर भी - उधर भी
Atul "Krishn"
अवसर
अवसर
संजय कुमार संजू
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
ज़ख्म दिल में छुपा रखा है
Surinder blackpen
■ आज का चिंतन
■ आज का चिंतन
*प्रणय प्रभात*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
*मर्यादा पुरूषोत्तम राम*
Shashi kala vyas
स्त्री
स्त्री
Ajay Mishra
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मुझमें भी कुछ अच्छा है
मुझमें भी कुछ अच्छा है
Shweta Soni
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
जगे युवा-उर तब ही बदले दुश्चिंतनमयरूप ह्रास का
Pt. Brajesh Kumar Nayak
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
वो कहते हैं कहाँ रहोगे
VINOD CHAUHAN
गणेश वंदना
गणेश वंदना
Bodhisatva kastooriya
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/177.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
!! प्रेम बारिश !!
!! प्रेम बारिश !!
The_dk_poetry
Loading...