Oct 6, 2016 · 1 min read

‘मेघ बरसें बने तन ये चन्दन’ : नवगीत

राह तकती धरा आस में मन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

आ चुका है असाढ़ी महीना
चिपचिपी देह बहता पसीना
हर कोई है उमस में ही व्याकुल
चैन मिलता किसी को कहीं ना
खेत सूखे पड़े शुष्क उपवन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

आग तन-मन में ऐसे लगी है
जैसे जलती हुई जिन्दगी है
धूप ने क्या गज़ब खेल खेला
हाय कैसी हुई दिल्लगी है
जल बिना जल रहा है ये तन मन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

कल लचकती थी रूखी हुई है
धान की पौध सूखी हुई है
लाख लालच निगाहें लगाए
हर तरफ भूख भूखी हुई है
अब तो बरसो धरा पर ओ साजन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

रचनाकार :
इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

96 Views
You may also like:
बांस का चावल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
【6】** माँ **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
अब कोई कुरबत नहीं
Dr. Sunita Singh
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नाशवंत आणि अविनाशी
Shyam Sundar Subramanian
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
चुप ही रहेंगे...?
मनोज कर्ण
तन्हा हूं, मुझे तन्हा रहने दो
Ram Krishan Rastogi
रसीला आम
Buddha Prakash
माँ
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आह! 14 फरवरी को आई और 23 फरवरी को चली...
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
खुशियों की रंगोली
Saraswati Bajpai
न तुमने कुछ न मैने कुछ कहा है
ananya rai parashar
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
बाबू जी
Anoop Sonsi
बोलती आँखे...
मनोज कर्ण
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
पिता का महत्व
ओनिका सेतिया 'अनु '
प्रेम...
Sapna K S
ये चिड़िया
Anamika Singh
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काँटे .. ज़ख्म बेहिसाब दे गये
Princu Thakur "usha"
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
दादी मां बहुत याद आई
VINOD KUMAR CHAUHAN
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr. Alpa H.
फूलो की कहानी,मेरी जुबानी
Anamika Singh
एक दौर था हम भी आशिक हुआ करते थे
Krishan Singh
Loading...