Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

‘मेघ बरसें बने तन ये चन्दन’ : नवगीत

राह तकती धरा आस में मन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

आ चुका है असाढ़ी महीना
चिपचिपी देह बहता पसीना
हर कोई है उमस में ही व्याकुल
चैन मिलता किसी को कहीं ना
खेत सूखे पड़े शुष्क उपवन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

आग तन-मन में ऐसे लगी है
जैसे जलती हुई जिन्दगी है
धूप ने क्या गज़ब खेल खेला
हाय कैसी हुई दिल्लगी है
जल बिना जल रहा है ये तन मन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

कल लचकती थी रूखी हुई है
धान की पौध सूखी हुई है
लाख लालच निगाहें लगाए
हर तरफ भूख भूखी हुई है
अब तो बरसो धरा पर ओ साजन
मेघ बरसें बने तन ये चन्दन

रचनाकार :
इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

Language: Hindi
Tag: गीत
287 Views
You may also like:
💐प्रेम की राह पर-34💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तूँ मुझमें समाया है
VINOD KUMAR CHAUHAN
दर्द का अंत
AMRESH KUMAR VERMA
उसकी आँखों के दर्द ने मुझे, अपने अतीत का अक्स...
Manisha Manjari
अब और कितना झूठ बोले तानाण तेरे किरदार में
Manoj Tanan
*चोरी के बाद (व्यंग्य)*
Ravi Prakash
उसे कभी न ……
Rekha Drolia
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
महाकवि नीरज के बहाने (संस्मरण)
Kanchan Khanna
हम कलियुग के प्राणी हैं/Ham kaliyug ke prani Hain
Shivraj Anand
ये इत्र सी स्त्रियां !!
Dr. Nisha Mathur
घिसी चप्पल
N.ksahu0007@writer
घर घर तिरंगा हो।
Rajesh Kumar Arjun
उड़ान
Shekhar Chandra Mitra
हाथ में खंजर लिए
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
'कई बार प्रेम क्यों ?'
Godambari Negi
"तेरे गलियों के चक्कर, काटने का मज़ा!!"
पाण्डेय चिदानन्द
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बुंदेली दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
भाइयों के बीच प्रेम, प्रतिस्पर्धा और औपचारिकताऐं
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबू जी
Anoop 'Samar'
दूरियां किसको रास आती हैं
Dr fauzia Naseem shad
शिव दोहा एकादशी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
परिन्दे धुआं से डरते हैं
Shivkumar Bilagrami
✍️मैं टाल देता हूँ ✍️
'अशांत' शेखर
Inspiration - a poem
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...