Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2022 · 1 min read

– में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार –

– में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार –

में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार,
नही मिला मुझको कभी अपनो का दुलार,
चाहता था में चाहत मिले मुझे अपनो की,
दिया नही मुझे कभी वो चाहत का अहसास,
पाना चाहता था में सदा अपनो का स्नेह,
नही मिला मुझे कभी वो स्नेह का आभास,
दिखा नही मुझे कभी उनकी आंखो में मेरे लिए प्यार,
दिखे सदा से ही मेरे लिए नफरत के भाव,
मांगी थी दुआ ईश्वर से उनके लिए हजार,
नही मिला मुझे मीठी बोली का स्वाद,
में तरसता रहा पाने को अपनो का प्यार,
नही मिला मुझको कभी अपनो का दुलार,

भरत गहलोत
जालोर राजस्थान,
संपर्क सूत्र -7742016184-
दिनांक 21/11/2022
समय : दोपहर 3.12

Language: Hindi
1 Like · 556 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ बड़ा सवाल...
■ बड़ा सवाल...
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते चाहे जो भी हो।
रिश्ते चाहे जो भी हो।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
🥀*गुरु चरणों की धूल* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
93. ये खत मोहब्बत के
93. ये खत मोहब्बत के
Dr. Man Mohan Krishna
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
💐प्रेम कौतुक-553💐
💐प्रेम कौतुक-553💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रिश्ता ये प्यार का
रिश्ता ये प्यार का
Mamta Rani
तमाशा जिंदगी का हुआ,
तमाशा जिंदगी का हुआ,
शेखर सिंह
"वक्त आ गया है"
Dr. Kishan tandon kranti
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
मैथिली पेटपोसुआ के गोंधियागिरी?
Dr. Kishan Karigar
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
*हार में भी होंठ पर, मुस्कान रहना चाहिए 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
जो जुल्फों के साये में पलते हैं उन्हें राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
" दूरियां"
Pushpraj Anant
मोहब्बत शायरी
मोहब्बत शायरी
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
3258.*पूर्णिका*
3258.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेला दिलों ❤️ का
मेला दिलों ❤️ का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
तुम आंखें बंद कर लेना....!
तुम आंखें बंद कर लेना....!
VEDANTA PATEL
अंधेरा कभी प्रकाश को नष्ट नहीं करता
अंधेरा कभी प्रकाश को नष्ट नहीं करता
हिमांशु Kulshrestha
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
ताक पर रखकर अंतर की व्यथाएँ,
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
हम ये कैसा मलाल कर बैठे
Dr fauzia Naseem shad
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
आज़ादी की जंग में कूदी नारीशक्ति
कवि रमेशराज
गिलहरी
गिलहरी
Kanchan Khanna
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
Indu Singh
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
हिंदी दलित साहित्यालोचना के एक प्रमुख स्तंभ थे डा. तेज सिंह / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
प्यार के सिलसिले
प्यार के सिलसिले
Basant Bhagawan Roy
ज़िंदगी
ज़िंदगी
Raju Gajbhiye
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
मारे ऊँची धाक,कहे मैं पंडित ऊँँचा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...