Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

मृ्ग अभिलाशा —हम विकास की ओर !–कविता [सुबह से पहले काव्य संग्र्ह से

( कविता )

मृ्ग अभिलाशा
हम विकास की ओर !
किस मापदंड मे?
वास्तविक्ता या पाखन्ड मे !
तृ्ष्णाओं के सम्मोहन मे
या प्रकृ्ति के दोहन मे
साईँस के अविश्कारों मे
या उससे फलिभूत विकरों मे
मानवता के संस्कारो मे
या सामाजिक विकरों मे
धर्म के मर्म या उत्थान मे
या बढ्ते साम्प्रदायिक उफान मे
पूँजीपती के पोषण मे
या गरीब के शोषण मे
क्या रोटी कपडा और मकान मे
या फुटपाथ पर पडे इन्सान मे
क्या बडी बडी अट्टालिकाओं मे
या झोंपड पट्टी कि बढती सँख्याओं मे
क्या नारीत्व के उत्थान मे
या नारी के घटते परिधान मे
क्या ऊँची उडान की परिभाषा मे
या झूठी मृ्ग अभिलाषा मे
ऎ मानव कर अवलोकन
कर तर्क और वितर्क
फिर देखना फर्क
ये है पाँच तत्वोँ का परिहास
प्राकृ्तिक सम्पदाओँ का ह्रास
ठहर 1 अपनी लालसाओँ को ना बढा
सृ्ष्टि को महाप्रलय की ओर ना लेजा

2 Comments · 316 Views
You may also like:
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
लाचार बूढ़ा बाप
jaswant Lakhara
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
आईना झूठ लगे
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️हम भारतवासी✍️
"अशांत" शेखर
$प्रीतम के दोहे
आर.एस. 'प्रीतम'
नाम
Ranjit Jha
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण
माफी मैं नहीं मांगता
gurudeenverma198
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
मैं हूँ किसान।
Anamika Singh
* साम वेदना *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
जो देखें उसमें
Dr.sima
【11】 *!* टिक टिक टिक चले घड़ी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वृक्ष की अभिलाषा
डॉ. शिव लहरी
काश हमारे पास भी होती ये दौलत।
Taj Mohammad
!?! सावधान कोरोना स्लोगन !?!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
" इच्छापूर्ति अक्टूबर "
Dr Meenu Poonia
रेत समाधि : एक अध्ययन
Ravi Prakash
कर तू कोशिश कई....
Dr. Alpa H. Amin
गर्मी
Ram Krishan Rastogi
घातक शत्रु
AMRESH KUMAR VERMA
सगुण
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
एक थे वशिष्ठ
Suraj Kushwaha
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
ऐ ...तो जिंदगी हैंं...!!!!
Dr. Alpa H. Amin
Loading...