Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Feb 2024 · 1 min read

मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को

भूमि अपनी हो गयी मैली,
होती थी उपजाऊ और सुनहली,
स्वस्थ मृदा मे बोते थे बीज,
लालच मे पड़ कर खाते है विष,
रासायनिक उर्वकों का उपयोग,
जहरीले कीटनाशको का अति प्रयोग,
पोषक तत्वों की कमियाँ हो जाती,
कारखानो के कचरे जब फेकतें,
प्रदूषक मिलने से धरती अब रोती,
मृदा प्रदूषण विश्वव्यापी समस्या है उभरती।

रोकथाम यदि जल्दी ना सीखा,
अंधे लगड़े-लूले होगे सब पैदा,
जीन मे परिवर्तन होगा फिर जरूर,
खुद परिवर्तन करते यदि नहीं शुरु,
मृदा प्रदूषण घातक है जीवन को,
इसी मृदा से जुड़ कर है जीते,
फसले अपनी होंगी बर्बाद,
जैव विविधता को पहुँचेगी हानि,
रोका नहीं यदि मृदा प्रदूषण आज,
पर्यावरण का होगा विनाश।

बुद्ध प्रकाश,
मौदहा हमीरपुर।

2 Likes · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Buddha Prakash
View all
You may also like:
होता अगर पैसा पास हमारे
होता अगर पैसा पास हमारे
gurudeenverma198
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
कसीदे नित नए गढ़ते सियासी लोग देखो तो ।
Arvind trivedi
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
3442🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
गौरवशाली भारत
गौरवशाली भारत
Shaily
18- ऐ भारत में रहने वालों
18- ऐ भारत में रहने वालों
Ajay Kumar Vimal
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
बड़ी कथाएँ ( लघुकथा संग्रह) समीक्षा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
*तिक तिक तिक तिक घोड़ा आया (बाल कविता)*
Ravi Prakash
डर
डर
Sonam Puneet Dubey
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*Author प्रणय प्रभात*
मार   बेरोजगारी   की   सहते  रहे
मार बेरोजगारी की सहते रहे
अभिनव अदम्य
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
दुनिया में सब ही की तरह
दुनिया में सब ही की तरह
डी. के. निवातिया
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
ruby kumari
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
इंसान से हिंदू मैं हुआ,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
मंजिल
मंजिल
Swami Ganganiya
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
*जब शिव और शक्ति की कृपा हो जाती है तो जीव आत्मा को मुक्ति म
Shashi kala vyas
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
ख्वाबों ने अपना रास्ता बदल लिया है,
manjula chauhan
पुलिस की चाल
पुलिस की चाल
नेताम आर सी
नव वर्ष मंगलमय हो
नव वर्ष मंगलमय हो
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
नज़र बूरी नही, नजरअंदाज थी
संजय कुमार संजू
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
आदि विद्रोही-स्पार्टकस
Shekhar Chandra Mitra
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
♤⛳मातृभाषा हिन्दी हो⛳♤
SPK Sachin Lodhi
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुत्ते
कुत्ते
Dr MusafiR BaithA
प्यास
प्यास
sushil sarna
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
रहे_ ना _रहे _हम सलामत रहे वो,
कृष्णकांत गुर्जर
** लिख रहे हो कथा **
** लिख रहे हो कथा **
surenderpal vaidya
"ताकीद"
Dr. Kishan tandon kranti
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
लिखता हम त मैथिल छी ,मैथिली हम नहि बाजि सकैत छी !बच्चा सभक स
DrLakshman Jha Parimal
राम काव्य मन्दिर बना,
राम काव्य मन्दिर बना,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...