Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Oct 2021 · 1 min read

मृत्यु या साजिश…?

मृत्यु या साजिश…?
~~°~~°~~°
जय जवान,जय किसान का नायक,
कर्तव्य की बलि वेदी पर ,
ताशकंद में मृत हुआ था ।
रोया था सारा भारत तब,
ग्यारह जनवरी छियाछठ को जब।
गुदड़ी का लाल बिछुड़ा था…

याद करो सन् पैंसठ की लड़ाई,
पाकिस्तान से जंग हुई थी।
हाजीपीर ठिठवाल इलाक़ा,
अपने वीर जवानों ने जीती थी।
भारत के बढ़ते कदम से,
विश्व में हलचल छायी थी।
दबाव बनाकर अयूब खान ने,
शांति समझौता करवाई थी।

जिसने की थी देश की सेवा,
निस्वार्थ भाव और विचारों से।
उसी को मिलकर किसी ने था लपेटा,
राजनीति के गलियारों से ।
साजिश थी या मृत्यु प्राकृतिक,
किसने समझ पाया था ।
भारत अपने लाल सपूत के ,
मृत्यु वेदना में जमकर रोया था।

रामनाथ निज रसोइया को,
किसने जाकर धमकाया था ।
और कहाँ से उस रात्रि में,
आलू पालक आया था ।
दूध इसबगोल संग जान की साजिश,
डाचा में कहर बरपाया था।

जड़ें कितनी गहरी साजिश की ,
अतीत में झाँककर देखो ।
एक-एक साक्ष्य कैसे मिट गया था,
ताशकंद की फाइल कुरेदो।
इतिहास नहीं पलटोगे यदि तुम,
देश पलट जाएगा ।
भारत माँ के वीर शहीदों का,
बलिदान यूँ ही व्यर्थ जाएगा ।

मौलिक एवं स्वरचित
सर्वाधिकार सुरक्षित
© ® मनोज कुमार कर्ण
कटिहार ( बिहार )
तिथि – ०२ /१०/२०२१
मोबाइल न. – 8757227201

Language: Hindi
9 Likes · 6 Comments · 2360 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from मनोज कर्ण
View all
You may also like:
"विस्तार"
Dr. Kishan tandon kranti
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
आरुष का गिटार
आरुष का गिटार
shivanshi2011
एक कुंडलिया
एक कुंडलिया
SHAMA PARVEEN
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
उड़ानों का नहीं मतलब, गगन का नूर हो जाना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
এটা আনন্দ
এটা আনন্দ
Otteri Selvakumar
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
!! नववर्ष नैवेद्यम !!
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
* बताएं किस तरह तुमको *
* बताएं किस तरह तुमको *
surenderpal vaidya
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
जिंदगी को बोझ नहीं मानता
SATPAL CHAUHAN
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
ਕੁਝ ਕਿਰਦਾਰ
Surinder blackpen
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
सीख लिया मैनै
सीख लिया मैनै
Seema gupta,Alwar
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
* हर परिस्थिति को निजी अनुसार कर लो(हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
लक्ष्मी-पूजन का अर्थ है- विकारों से मुक्ति
कवि रमेशराज
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
शिकवा नहीं मुझे किसी से
शिकवा नहीं मुझे किसी से
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
तेरी परवाह करते हुए ,
तेरी परवाह करते हुए ,
Buddha Prakash
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
3067.*पूर्णिका*
3067.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हक़ीक़त पर रो दिया
हक़ीक़त पर रो दिया
Dr fauzia Naseem shad
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
*कर्म बंधन से मुक्ति बोध*
Shashi kala vyas
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
तेरी इस बेवफाई का कोई अंजाम तो होगा ।
Phool gufran
आशा
आशा
नवीन जोशी 'नवल'
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
Meditation
Meditation
Ravikesh Jha
पितृपक्ष
पितृपक्ष
Neeraj Agarwal
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
⚘️महाशिवरात्रि मेरे लेख🌿
Ms.Ankit Halke jha
Loading...