Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jul 2023 · 2 min read

मृत्यु पर विजय

दस साल का नन्हा सा मासूम वैभव अपने दादाजी से कहानियां सुनने का आदी था, उसके दादाजी हर रोज उसे अच्छी मनोरंजक और प्रेरक कहानियां सुनाते थे।

आज उसके दादाजी ने उसे आध्यात्मिक ज्ञान देने के उद्देश्य से दैत्यों को मृत्यु पर विजय प्राप्त करने के लिए ब्रह्माजी की तपस्या करने और अमरता के वरदान के स्थान पर अतुल्य शक्ति पाकर देवताओं से युद्ध करके अपना ही विनाश कर लेने की कहानी सुनाई थी।

जब से उसने अपने दादाजी से ये कहानी सुनी थी तबसे उसके मासूम दिमाग में एक ही प्रश्न उमड़ रहा था, कि क्या सचमुच में कोई मृत्यु पर विजय प्राप्त कर सकता है या फिर ये एक कल्पना मात्र है।

अब उसने इस बारे में अपने दादाजी से ही पूछने की सोची क्योंकि वो अपने दिमाग में उठने वाले हर सवाल का जवाब अपने दादाजी से ही पूछा करता था और उसके दादाजी भी उसे जवाब देकर उसकी जिज्ञासा शांत कर दिया करते थे।

मासूम वैभव अपना सवाल लेकर पहुंच गया था अपने दादाजी के पास, जहां उसके दादाजी ने उसे प्यार से अपने पास बिठाया और उससे बोले, बोलो बेटा कुछ पूछना चाहते हो क्या जो ऐसे अशांत लग रहे हो।

वैभव बोला दादाजी मुझे जानना है कि कोई मृत्यु पर विजय प्राप्त कैसे कर सकता है? इस पर उसके दादाजी मुस्कुराए और बोले बेटा! मृत्यु तो जीवन का यथार्थ सत्य है…..वो किसी के टाले नहीं टल सकती……जीवन और मृत्यु एक पहिए के दो पहलू हैं और ये निश्चित है।

दादाजी के इस जवाब को सुनकर अब मासूम वैभव उदास सा दिखने लगा तो उसके दादाजी ने फिर से बोला बेटा! ये सत्य है कि मृत्यु टाले नहीं टल सकती, लेकिन इंसान को अपने जीवन में ऐसे अच्छे कार्य करने चाहिए जिससे मृत्यु के बाद भी दुनिया में उसे याद किया जाए और उसका नाम लिया जाए।

इस तरह से इंसान तो मरकर खत्म हो जाता है लेकिन उसके अच्छे कर्मों से उसका नाम अमर हो जाता है और यही है असली “मृत्यु पर विजय”……..

✍️मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर, छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

1 Like · 314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
💐मैं हूँ तुम्हारी मन्नतों में💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
क्या सोचूं मैं तेरे बारे में
gurudeenverma198
बरखा रानी तू कयामत है ...
बरखा रानी तू कयामत है ...
ओनिका सेतिया 'अनु '
माँ शेरावली है आनेवाली
माँ शेरावली है आनेवाली
Basant Bhagawan Roy
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – भातृ वध – 05
Kirti Aphale
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
आज के युग में नारीवाद
आज के युग में नारीवाद
Surinder blackpen
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
*महामना जैसा भला, होगा किसका काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन में चुनौतियां हर किसी
जीवन में चुनौतियां हर किसी
नेताम आर सी
हर पाँच बरस के बाद
हर पाँच बरस के बाद
Johnny Ahmed 'क़ैस'
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
मिसरे जो मशहूर हो गये- राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
नयनों का वार
नयनों का वार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
बुद्ध के बदले युद्ध
बुद्ध के बदले युद्ध
Shekhar Chandra Mitra
* जिन्दगी की राह *
* जिन्दगी की राह *
surenderpal vaidya
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
ज़मीर
ज़मीर
Shyam Sundar Subramanian
■ एकाकी जीवन
■ एकाकी जीवन
*Author प्रणय प्रभात*
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या  रिश्ते को इतन
आज कल के दौर के लोग किसी एक इंसान , परिवार या रिश्ते को इतन
पूर्वार्थ
"मानद उपाधि"
Dr. Kishan tandon kranti
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
🥀* अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
‘ विरोधरस ‘---10. || विरोधरस के सात्विक अनुभाव || +रमेशराज
कवि रमेशराज
चाह और आह!
चाह और आह!
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
Loading...