Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 2 min read

*मूलांक*

डॉ अरुण कुमार शास्त्री – एक अबोध बालक – अरुण अतृप्त

मूलांक

बरसती बारिश रात की लरजती छाती ,
हर बात पर सहमा – सहमा सा मौसम ,

अनदेखी अनकही अचानक सी अचंभित मुलाकात थी , वो घबराई सी सिमटी थी , मैं चंचल मस्त भंवर सा शरारती ।

फिर ऊपर से कड़कना बिजली का कि जैसे टूटा कहीं पहाड़ था।
न वो बोली न मैं बोला , बेहद चुप्पी थी सालती ।

फिर आई मुसीबत सामने जल का स्तर था लगा बढ़ने ।
चहुं और विकट अधियारा था , हाँथ को हाँथ भी अनजाना था ।

वो सबला नारी वक्त से हारी , मजबूरी में आकर पास मेरे यूं बोली ।
कुछ कीजिए ऐसे तो हम डूब जाएंगे, नाहक अपनी जान गवायेंगे।

यक दम मेरा पुरुषत्व जगा, मैं बोला मत घबराएँ आप ।
मदद मिलेगी हमको, थोड़ा सा धैर्य तो कीजिए आप ।

मोबाईल निकाला तब मैंने , लेकिन वो भी तो गीला था ।
फिर हिम्मत करके मैंने उसको पास के पेड़ पर चड़ा दिया ।
साथ साथ खुद को भी पास की डाल पर बैठा दिया ।

फिर सुबह कटी जैसे तैसे , मदद मिली हम अपने अपने घर पहुंचे ।
ये वाकया मेरे जीवन के साल सोहलवे में सच – सच गुजरा
कहता किस से सुनता कौन मैं बालक था निपट अज्ञान भरा।

लेकिन एक दिन कॉलेज में एक फंक्शन था साहित्यक विमर्श का उत्सव था।
अलग – अलग प्रान्तों से छात्र छात्राओं का साहित्यक संगम था।

हम भी अपनी रचना को लेकर उत्साहित से शामिल थे , ये बात अलग है थोड़े से चिंतित थे।
सबने देखा सबने बोला, अपने अनुभव को मंच पर पेश किया।

फिर हुआ अचानक प्राकट्य विस्फोटक जैसे किसी ने बम फोड़ा।
वो साल पुरानी बात अचानक वो बारिश की रात अचानक मेरे जेहन में आई ।

वो कन्या राशि तरुणाई सी लहराती हुई मंच पर जब आई ।
धरती खिसकी पैरों के तल से खुद पर खुद से संवाद छिड़ा।

वो रही बोलती कोकिल स्वर में मैं खोया – खोया अपने
भ्रम में।
सच था या फिर सपना था ये कहना बिलकुल मुश्किल था ।

फिर नाम लिया संचालक ने मेरा तब ही आया था होश वहां
अपनी कविता को लेकर मैंने भी रच दिया एक इतिहास
नया।

भाव के आवेश में शब्दों के प्रारूप में, वो सीधी सादी प्रभु की रचना।
मेरी रचना को सुनकर रोक सकी न खुद को पलभर, आकर मुझको अंगीकार किया।

यूं लगा उस दिन फरवरी 14 थी कामदेव की सीधी दृष्टि समझो तो सीधी मुझ पर थी ।
मैने उनके इस महा प्रसाद को सच में आदर सहित स्वीकार किया।

बरसती बारिश रात की लरजती छाती ,
हर बात पर सहमा – सहमा सा मौसम ,

अनदेखी अनकही अचानक सी अचंभित मुलाकात थी , वो घबराई सी सिमटी थी , मैं चंचल मस्त भंवर सा शरारती ।

Language: Hindi
1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
वास्तविकता से परिचित करा दी गई है
Keshav kishor Kumar
अंधों के हाथ
अंधों के हाथ
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
"अश्क भरे नयना"
Ekta chitrangini
चालें बहुत शतरंज की
चालें बहुत शतरंज की
surenderpal vaidya
मुख  से  निकली पहली भाषा हिन्दी है।
मुख से निकली पहली भाषा हिन्दी है।
सत्य कुमार प्रेमी
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
अरे लोग गलत कहते हैं कि मोबाइल हमारे हाथ में है
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
शमशान घाट
शमशान घाट
Satish Srijan
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
हम सुधरेंगे तो जग सुधरेगा
Sanjay ' शून्य'
सारे रिश्तों से
सारे रिश्तों से
Dr fauzia Naseem shad
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
अंबेडकर की मूर्ति तोड़े जाने पर
Shekhar Chandra Mitra
ये नज़रें
ये नज़रें
Shyam Sundar Subramanian
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
3057.*पूर्णिका*
3057.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"खबर"
Dr. Kishan tandon kranti
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
हंसवाहिनी दो मुझे, बस इतना वरदान।
Jatashankar Prajapati
वो पहली पहली मेरी रात थी
वो पहली पहली मेरी रात थी
Ram Krishan Rastogi
जय श्री कृष्ण
जय श्री कृष्ण
Bodhisatva kastooriya
*चंद्रयान (बाल कविता)*
*चंद्रयान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
■ चाची 42प का उस्ताद।
■ चाची 42प का उस्ताद।
*Author प्रणय प्रभात*
हिन्दी माई
हिन्दी माई
Sadanand Kumar
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
जब बातेंं कम हो जाती है अपनों की,
Dr. Man Mohan Krishna
नवरात्रि-गीत /
नवरात्रि-गीत /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
स्मृतियाँ  है प्रकाशित हमारे निलय में,
स्मृतियाँ है प्रकाशित हमारे निलय में,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
One day you will leave me alone.
One day you will leave me alone.
Sakshi Tripathi
माँ का जग उपहार अनोखा
माँ का जग उपहार अनोखा
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
कीमत
कीमत
Ashwani Kumar Jaiswal
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
16- उठो हिन्द के वीर जवानों
Ajay Kumar Vimal
एक ज़िद थी
एक ज़िद थी
हिमांशु Kulshrestha
Loading...