Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

मूर्दों की बस्ती

न तो खुलकर जी सकती है
न ही खुलकर मर सकती है
अरे, यह मूर्दों की बस्ती है
बस हाय-हाय कर सकती है…
(१)
क्या लेखक-क्या पत्रकार
क्या खिलाड़ी-क्या कलाकार
जब बड़े-बड़े सूरमा चुप हुए
आखिर अपनी क्या हस्ती है…
(२)
नीरो के इस राज में
ज़ात-धरम की आग में
देख जला जा रहा रोम उधर
इधर छाई इस पर मस्ती है…
(३)
देश के बिगड़ते हाल पर
वक़्त के ज़रूरी सवाल पर
आज विपक्ष के नेताओं में
कितनी शर्मनाक पस्ती है…
(४)
तालीम से लेकर सेहत तक
कारोबार से लेकर इज़्ज़त तक
हर चीज़ यहां महंगी लेकिन
जान आदमी की सस्ती है…
(५)
मदारी का बीन सुनकर
नाचती रहती है पूंछ पर
दूध पिलाने वाले को ही
यह नागिन बनके डंसती है…
(६)
बुद्धिजीवियों को गाली मिले
और धर्मगुरु को ताली मिले
तभी तो इन जाहिलों की
हालत इतनी खस्ती है…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#iamwithchampians #खुदगर्ज #कवि
#WrestlerProtest #खामोशी #lyrics
#महिला_पहलवान #हल्ला_बोल #गीत
#प्रदर्शन #आंदोलन #इंसाफ #चुप्पी
#शायर #justice #fight #struggle #सम्मान #media #bollywood

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 257 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
चेहरे के भाव
चेहरे के भाव
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
कुंडलिया ....
कुंडलिया ....
sushil sarna
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
बाद मुद्दत के हम मिल रहे हैं
Dr Archana Gupta
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े  रखता है या
दादी दादा का प्रेम किसी भी बच्चे को जड़ से जोड़े रखता है या
Utkarsh Dubey “Kokil”
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
कान्हा भक्ति गीत
कान्हा भक्ति गीत
Kanchan Khanna
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
फूल अब खिलते नहीं , खुशबू का हमको पता नहीं
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
*मोती बनने में मजा, वरना क्या औकात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
-बहुत देर कर दी -
-बहुत देर कर दी -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
बिल्कुल, बच्चों के सम्मान और आत्मविश्वास का ध्यान रखना बहुत
बिल्कुल, बच्चों के सम्मान और आत्मविश्वास का ध्यान रखना बहुत
पूर्वार्थ
अनमोल मोती
अनमोल मोती
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
चलते-चलते...
चलते-चलते...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
बेशक मैं उसका और मेरा वो कर्जदार था
हरवंश हृदय
तुम्हारी यादें
तुम्हारी यादें
अजहर अली (An Explorer of Life)
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
जमाने की नजरों में ही रंजीश-ए-हालात है,
manjula chauhan
चलो स्कूल
चलो स्कूल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"दो पहलू"
Yogendra Chaturwedi
दोस्ती
दोस्ती
Monika Verma
"उल्लू"
Dr. Kishan tandon kranti
*रेल हादसा*
*रेल हादसा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
भ्रष्टाचार और सरकार
भ्रष्टाचार और सरकार
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
मैं तुझे खुदा कर दूं।
मैं तुझे खुदा कर दूं।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
■ एक महीन सच्चाई।।
■ एक महीन सच्चाई।।
*प्रणय प्रभात*
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
तुमको कुछ दे नहीं सकूँगी
Shweta Soni
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
आप हरते हो संताप
आप हरते हो संताप
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
एक पीर उठी थी मन में, फिर भी मैं चीख ना पाया ।
आचार्य वृन्दान्त
Loading...