Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 May 2023 · 1 min read

मूडी सावन

रोज रोज की ड्यूटी कैसी
मेरी ही क्यों है जिम्मेदारी
अब के क्यो कर बरसू मैं ही
मेरा बिलकुल मूड नहीं है

मूड ही से जगता मानुष
खाना मूड जमे जब खाता
बिना मूड ना पढता लिखता
बनें मूड तब सैर को जाता

सागर से उन्मुक्त जोश लिए,
सफर सुहाने मैं चला था
हरियाली, जंगल की सी चदरिया
दिखने को मन तरसा था

दुखी हो कहीं फट पडा तो
कहीं बरसाने को दिल ना हुआ
मूडी जो थी इंसा की फितरत
मुझ पर भी उसका रोग चढा

शायद मेरे मूडी रवैये से
सोया हर वो शख्स जगे
अपनी हर जिम्मेदारी का अब
बिना मूड के बोध जगे

मैं मेहमां बस तीन मास का
चाहूँ कुछ सत्कार मिले
जहाँ से गुजरू लेके बादर
लहलहाती पेडो की शाखाएं दिखें

Language: Hindi
3 Likes · 209 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Sandeep Pande
View all
You may also like:
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
"पहचान"
Dr. Kishan tandon kranti
मायापति की माया!
मायापति की माया!
Sanjay ' शून्य'
सवाल जिंदगी के
सवाल जिंदगी के
Dr. Rajeev Jain
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
हमको तू ऐसे नहीं भूला, बसकर तू परदेश में
gurudeenverma198
करवा चौथ
करवा चौथ
इंजी. संजय श्रीवास्तव
स्वदेशी
स्वदेशी
विजय कुमार अग्रवाल
पुरवाई
पुरवाई
Seema Garg
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
आखिर उन पुरुष का,दर्द कौन समझेगा
पूर्वार्थ
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
है सियासत का असर या है जमाने का चलन।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
दम तोड़ते अहसास।
दम तोड़ते अहसास।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
वो काल है - कपाल है,
वो काल है - कपाल है,
manjula chauhan
हे बुद्ध
हे बुद्ध
Dr.Pratibha Prakash
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
मोहब्बत के लिए गुलकारियां दोनों तरफ से है। झगड़ने को मगर तैयारियां दोनों तरफ से। ❤️ नुमाइश के लिए अब गुफ्तगू होती है मिलने पर। मगर अंदर से तो बेजारियां दोनो तरफ से हैं। ❤️
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
संघर्ष....... जीवन
संघर्ष....... जीवन
Neeraj Agarwal
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
सब खो गए इधर-उधर अपनी तलाश में
Shweta Soni
ज़माने ने मुझसे ज़रूर कहा है मोहब्बत करो,
ज़माने ने मुझसे ज़रूर कहा है मोहब्बत करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
माटी करे पुकार 🙏🙏
माटी करे पुकार 🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2770. *पूर्णिका*
2770. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
आप हाथो के लकीरों पर यकीन मत करना,
शेखर सिंह
क्या कहूँ ?
क्या कहूँ ?
Niharika Verma
विचार~
विचार~
दिनेश एल० "जैहिंद"
मिले हम तुझसे
मिले हम तुझसे
Seema gupta,Alwar
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
मेरी साँसों से अपनी साँसों को - अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शब्द : दो
शब्द : दो
abhishek rajak
कविता
कविता
Shiva Awasthi
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
अच्छा बोलने से अगर अच्छा होता,
Manoj Mahato
Loading...