Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Sep 2016 · 1 min read

मूँछेँ (सिर्फ एक मजाक)

मूँछेँ (सिर्फ एक मजाक)

सच कहूँ तो शान हैँ मूँछेँ।
मर्दों की पहचान हैँ मूँछेँ।।
अब तो यह फैशन है आया।
मूँछोँ का है हुआ सफाया।।
यह फैशन मूँछोँ पर भारी।
हैँ दिखते नर, जैसी नारी।।
मर्द हुए मेँहदी के आदी।
मूँछ मुड़ा के करते शादी।।

– आकाश महेशपुरी

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from आकाश महेशपुरी
View all
You may also like:
कोई साया
कोई साया
Dr fauzia Naseem shad
जीने का सलीका
जीने का सलीका
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
क्या ये गलत है ?
क्या ये गलत है ?
Rakesh Bahanwal
पहनते है चरण पादुकाएं ।
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
✍️गहरी साजिशें
✍️गहरी साजिशें
'अशांत' शेखर
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हम छि मिथिला के बासी,
हम छि मिथिला के बासी,
Ram Babu Mandal
चाय पार्टी
चाय पार्टी
Mukesh Kumar Sonkar
गज़ल
गज़ल
सत्य कुमार प्रेमी
याद आते हैं वो
याद आते हैं वो
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
उम्मीद - ए - आसमां से ख़त आने का इंतजार हमें भी है,
manjula chauhan
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
*┄┅════❁ 卐ॐ卐 ❁════┅┄​*
Satyaveer vaishnav
हम दोनों के दरमियां ,
हम दोनों के दरमियां ,
श्याम सिंह बिष्ट
Ranjeet Shukla
Ranjeet Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
विवशता
विवशता
आशा शैली
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
हाथ माखन होठ बंशी से सजाया आपने।
लक्ष्मी सिंह
2555.पूर्णिका
2555.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ यादगार लम्हे
■ यादगार लम्हे
*Author प्रणय प्रभात*
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
*जन्मभूमि के कब कहॉं, है बैकुंठ समान (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
" बेशकीमती थैला"
Dr Meenu Poonia
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
I sit at dark to bright up in the sky 😍 by sakshi
Sakshi Tripathi
मातृशक्ति को नमन
मातृशक्ति को नमन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"लालटेन"
Dr. Kishan tandon kranti
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
21-रूठ गई है क़िस्मत अपनी
Ajay Kumar Vimal
हमसाया
हमसाया
Manisha Manjari
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
Loading...