Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 May 2023 · 1 min read

मुहब्बत हुयी थी

मुहब्बत हुयी थी
या अदावत हुयी थी
ये मत पूछ मुझ से
क्या क़यामत हुयी थी

350 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
मौन के प्रतिमान
मौन के प्रतिमान
Davina Amar Thakral
एक किताब खोलो
एक किताब खोलो
Dheerja Sharma
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
मईया के आने कि आहट
मईया के आने कि आहट
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
दोहा पंचक. . . . . पत्नी
sushil sarna
पर्वत 🏔️⛰️
पर्वत 🏔️⛰️
डॉ० रोहित कौशिक
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
हरे हैं ज़ख़्म सारे सब्र थोड़ा और कर ले दिल
Meenakshi Masoom
वादा  प्रेम   का  करके ,  निभाते  रहे   हम।
वादा प्रेम का करके , निभाते रहे हम।
Anil chobisa
वो हर रोज़ आया करती है मंदिर में इबादत करने,
वो हर रोज़ आया करती है मंदिर में इबादत करने,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*तेरे साथ जीवन*
*तेरे साथ जीवन*
AVINASH (Avi...) MEHRA
"हर बाप ऐसा ही होता है" -कविता रचना
Dr Mukesh 'Aseemit'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
3202.*पूर्णिका*
3202.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आधुनिक नारी
आधुनिक नारी
Dr. Kishan tandon kranti
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
ये काले बादलों से जैसे, आती रात क्या
Ravi Prakash
तेज़ाब का असर
तेज़ाब का असर
Atul "Krishn"
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
वोट की राजनीति
वोट की राजनीति
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
महिला दिवस
महिला दिवस
Surinder blackpen
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रलयंकारी कोरोना
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पितृ स्तुति
पितृ स्तुति
गुमनाम 'बाबा'
■ दूसरा पहलू
■ दूसरा पहलू
*प्रणय प्रभात*
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
मैं लिखता हूँ जो सोचता हूँ !
DrLakshman Jha Parimal
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
इंसानियत का चिराग
इंसानियत का चिराग
Ritu Asooja
कोई भी
कोई भी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...