Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2017 · 1 min read

मुहब्बत, इक एहसास

मुहब्बत इक एहसास, के इलावा क्या है,
समझो तो सब कुछ, वर्ना क्या है,

ज़ज्बा है किसी की चाहत का, चाहने का,
उसे हासिल करने के सिवा इरादा क्या है,

क़रीब आकर ही आदते और वजाहतें सामने आती हैं
फिर पसंद-नापसंद, ये ख्वाब टूटने का सिलसिला क्या है,

परेशान से ढूंढते हैं जिसका तसुव्वर किया था कभी.
खवाबों की उस तस्वीर में, ये धुंधला सा साया क्या है,

यह इंसान अजनबी है या वो थी तस्वीर किसी और की,
इसी कशमकश में हैरान, कि यह माज़रा क्या है,

मुहब्बत की आरजू, अधूरी प्यास बन के रह गयी,
मुहब्बत के एहसास का, मुक़म्मल अफसाना क्या है,

हो शिद्दत से मुहब्बत, तो ये बहाना क्या है,
मुहब्बत अम्ल है करने का, लौटाना क्या है,
-विकास शर्मा ‘दक्ष’-

1 Comment · 234 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बाल कहानी- अधूरा सपना
बाल कहानी- अधूरा सपना
SHAMA PARVEEN
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
अभिनंदन डॉक्टर (कुंडलिया)
Ravi Prakash
पसरी यों तनहाई है
पसरी यों तनहाई है
Dr. Sunita Singh
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
आज
आज
Shyam Sundar Subramanian
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
Dr fauzia Naseem shad
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
उलझनें तेरे मैरे रिस्ते की हैं,
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
खैरात में मिली
खैरात में मिली
हिमांशु Kulshrestha
तेरी ख़ुशबू
तेरी ख़ुशबू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वायदे के बाद भी
वायदे के बाद भी
Atul "Krishn"
" सत कर्म"
Yogendra Chaturwedi
सूने सूने से लगते हैं
सूने सूने से लगते हैं
Er. Sanjay Shrivastava
मैं
मैं "लूनी" नही जो "रवि" का ताप न सह पाऊं
ruby kumari
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
Manu Vashistha
💐प्रेम कौतुक-545💐
💐प्रेम कौतुक-545💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
संसद
संसद
Bodhisatva kastooriya
आँख दिखाना आपका,
आँख दिखाना आपका,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Moti ki bhi ajib kahani se , jisne bnaya isko uska koi mole
Sakshi Tripathi
सकारात्मक पुष्टि
सकारात्मक पुष्टि
पूर्वार्थ
#शेर-
#शेर-
*Author प्रणय प्रभात*
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
तू प्रतीक है समृद्धि की
तू प्रतीक है समृद्धि की
gurudeenverma198
चिराग़ ए अलादीन
चिराग़ ए अलादीन
Sandeep Pande
प्यारी मां
प्यारी मां
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...