Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2023 · 1 min read

मुस्कुराने लगे है

मुस्कुराने लगे है

यू ही नहीं हम लोगो से टकराते हैं यू ही नहीं जीवन में लोग आते हैं खो गया था मैं कहीं दुनिया में पर उनके आते ही फिर मुस्कुराने लगे है

7 Likes · 1 Comment · 194 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संवरना हमें भी आता है मगर,
संवरना हमें भी आता है मगर,
ओसमणी साहू 'ओश'
प्रेम में डूब जाने वाले,
प्रेम में डूब जाने वाले,
Buddha Prakash
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
सार्थक मंथन
सार्थक मंथन
Shyam Sundar Subramanian
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
*स्वच्छ मन (मुक्तक)*
Rituraj shivem verma
*आशाओं के दीप*
*आशाओं के दीप*
Harminder Kaur
बेहतर और बेहतर होते जाए
बेहतर और बेहतर होते जाए
Vaishaligoel
हर गम छुपा लेते है।
हर गम छुपा लेते है।
Taj Mohammad
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
अपना कोई वजूद हो, तो बताना मेरे दोस्त।
Sanjay ' शून्य'
LALSA
LALSA
Raju Gajbhiye
दर्द-ए-सितम
दर्द-ए-सितम
Dr. Sunita Singh
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
भाग्य पर अपने
भाग्य पर अपने
Dr fauzia Naseem shad
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
सजा दे ना आंगन फूल से रे माली
Basant Bhagawan Roy
मायने रखता है
मायने रखता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
ढलता वक्त
ढलता वक्त
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
Finding someone to love us in such a way is rare,
Finding someone to love us in such a way is rare,
पूर्वार्थ
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
दवाइयां जब महंगी हो जाती हैं, ग़रीब तब ताबीज पर यकीन करने लग
Jogendar singh
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
ना रहीम मानता हूँ ना राम मानता हूँ
VINOD CHAUHAN
जवाब ना दिया
जवाब ना दिया
Madhuyanka Raj
"ऐ दिल"
Dr. Kishan tandon kranti
इतना बेबस हो गया हूं मैं
इतना बेबस हो गया हूं मैं
Keshav kishor Kumar
यूँ ही नही लुभाता,
यूँ ही नही लुभाता,
हिमांशु Kulshrestha
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
मरा नहीं हूं इसीलिए अभी भी जिंदा हूं ,
Manju sagar
ख़ामोशी
ख़ामोशी
कवि अनिल कुमार पँचोली
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/79.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
नम आँखे
नम आँखे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
मुस्काती आती कभी, हौले से बरसात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
Loading...