Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

* मुस्कुराते नहीं *

** गीतिका **
~~
आप क्यों मुस्कुराते नहीं हैं।
स्नेह मन में जगाते नहीं हैं।

छोड़ कर देखिए उलझनों को।
आप हिम्मत जुटाते नहीं हैं।

आस का एक दीपक जलाकर।‌
क्यों अँधेरा मिटाते नहीं हैं।

हमसफ़र मानते हो हमें पर।
बात मन की बताते नहीं हैं।

गिर गये किन्तु उठना जरूरी।
सत्य क्यों मान जाते नहीं हैं।

जिन्दगी कष्टमय हैं बिताते।
जो कभी जल बचाते नहीं हैं।

हैं कठिन मंजिलें सिर्फ उनकी।
पथ स्वयं जो बनाते नहीं हैं।

जो छुपाते हमेशा हकीकत।
बात सच जान पाते नहीं हैं।
~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
प्रेम पाना,नियति है..
प्रेम पाना,नियति है..
पूर्वार्थ
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
sushil sarna
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
मेरी कविताएं
मेरी कविताएं
Satish Srijan
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
इजाज़त है तुम्हें दिल मेरा अब तोड़ जाने की ।
Phool gufran
सबूत ना बचे कुछ
सबूत ना बचे कुछ
Dr. Kishan tandon kranti
माँ का आशीर्वाद पकयें
माँ का आशीर्वाद पकयें
Pratibha Pandey
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
अमीर-ग़रीब वर्ग दो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कुण्डल / उड़ियाना छंद
कुण्डल / उड़ियाना छंद
Subhash Singhai
हिंदी
हिंदी
नन्दलाल सुथार "राही"
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
यदि गलती से कोई गलती हो जाए
Anil Mishra Prahari
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
वेलेंटाइन एक ऐसा दिन है जिसका सबके ऊपर एक सकारात्मक प्रभाव प
Rj Anand Prajapati
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
बैरिस्टर ई. राघवेन्द्र राव
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वाह रे मेरे समाज
वाह रे मेरे समाज
Dr Manju Saini
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
कर्मवीर भारत...
कर्मवीर भारत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ५)
Kanchan Khanna
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
*हजारों साल से लेकिन,नई हर बार होली है 【मुक्तक 】*
Ravi Prakash
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
ruby kumari
शिक्षक है आदर्श हमारा
शिक्षक है आदर्श हमारा
Harminder Kaur
खूब ठहाके लगा के बन्दे
खूब ठहाके लगा के बन्दे
Akash Yadav
* रंग गुलाल अबीर *
* रंग गुलाल अबीर *
surenderpal vaidya
3264.*पूर्णिका*
3264.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
■ आज का नमन्।।
■ आज का नमन्।।
*Author प्रणय प्रभात*
* सखी  जरा बात  सुन  लो *
* सखी जरा बात सुन लो *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
दया के सागरः लोककवि रामचरन गुप्त +रमेशराज
कवि रमेशराज
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
#यदा_कदा_संवाद_मधुर, #छल_का_परिचायक।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
आनन्द मिश्र
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
एक युवक की हत्या से फ़्रांस क्रांति में उलझ गया ,
DrLakshman Jha Parimal
Loading...