Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Jul 2016 · 1 min read

मुस्कान

*मुक्तक*
भेद भुला कर हम मुस्का दें।
गले लगा कर पीर मिटा दें।
निश्छल हृदय मिलन से जग में।
दिवि को ही धरती पर ला दें।
अंकित शर्मा’इषुप्रिय’
रामपुर कलाँ,सबलगढ(म.प्र.)

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 343 Views
You may also like:
प्यार-दिल की आवाज़
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
तेरे ख़त
Kaur Surinder
जंगल के राजा
Abhishek Pandey Abhi
कितनी बार लड़ हम गए
gurudeenverma198
कोई भी रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
रेत पर नाम लिख मैं इरादों को सहला आयी।
Manisha Manjari
آج کی رات ان آنکھوں میں بسا لو مجھ کو
Shivkumar Bilagrami
नया साल
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
भारत माँ के वीर सपूत
Kanchan Khanna
-- बड़ा अभिमानी रे तू --
गायक और लेखक अजीत कुमार तलवार
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तेरा साथ मुझको गवारा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
::: प्यासी निगाहें :::
MSW Sunil SainiCENA
ग़ज़ल- मेरे दिल की चाहतों ने
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Atma & Paramatma
Shyam Sundar Subramanian
■ सामयिक आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
आग का दरिया।
Taj Mohammad
इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इश्क
Anamika Singh
हमारे जैसा कोई और....
sangeeta beniwal
क्यों भावनाएं भड़काते हो?
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🦃🐧तुम्हें देखा तुम्हें चाहा अब तक🐧🦃
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दूब
Shiva Awasthi
*दलबदलू के दल बदलने पर शोक न कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
राह कोई ऐसी
Seema 'Tu hai na'
खुदा मिल गया
shabina. Naaz
✍️मगर क्रांति के अंत तक..
'अशांत' शेखर
उजड़ी हुई बगिया
Shekhar Chandra Mitra
Loading...