Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jan 2023 · 1 min read

” मुस्कराना सीख लो “

ग़ज़ल

पा गये गम तो भुलाना सीख लो !
दर्द में भी मुस्कराना सीख लो !!

नाव कागज़ की तिरायी हैं बहुत !
धार के उस पर जाना सीख लो !!

दोष मढ़ना तो यहाँ की रीत है !
जो घटा उसको भुलाना सीख लो !!

वक्त हरकारा ख़ुशी जो बाँटता ,
ख्वाब अपना खुद सजाना सीख लो !!

हार कर बैठे नहीं खामोश हो !
नाच औरों को नचाना सीख लो !!

जो गया वह लौटकर आता नहीं !
हाथ जो अवसर भुनाना सीख लो !!

प्रेम में एकात्म होना हो बिरज !
आँख से मोती गिराना सीख लो !!

स्वरचित / रचियता :
बृज व्यास
शाजापुर ( मध्यप्रदेश )

Language: Hindi
245 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**
*श्रद्धा विश्वास रूपेण**"श्रद्धा विश्वास रुपिणौ'"*
Shashi kala vyas
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन
Ravi Prakash
बात
बात
Shyam Sundar Subramanian
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
I find solace in silence, though it's accompanied by sadness
पूर्वार्थ
।। नीव ।।
।। नीव ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
*देह का दबाव*
*देह का दबाव*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
रहे हरदम यही मंजर
रहे हरदम यही मंजर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
गोर चराने का मज़ा, लहसुन चटनी साथ
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
// लो फागुन आई होली आया //
// लो फागुन आई होली आया //
Surya Barman
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
लिबास -ए – उम्मीद सुफ़ेद पहन रक्खा है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2907.*पूर्णिका*
2907.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर विशेष कविता:-
*Author प्रणय प्रभात*
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
बदनाम ये आवारा जबीं हमसे हुई है
Sarfaraz Ahmed Aasee
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
हम शायर लोग कहां इज़हार ए मोहब्बत किया करते हैं।
Faiza Tasleem
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
थोड़ा प्रयास कर समस्या का समाधान स्वयं ढ़ुंढ़ लेने से समस्या
Paras Nath Jha
परवाज़ की कोशिश
परवाज़ की कोशिश
Shekhar Chandra Mitra
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की पिता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
💐प्रेम कौतुक-549💐
💐प्रेम कौतुक-549💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
गीत// कितने महंगे बोल तुम्हारे !
Shiva Awasthi
बिखरी बिखरी जुल्फे
बिखरी बिखरी जुल्फे
Khaimsingh Saini
वतन के तराने
वतन के तराने
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
“परिंदे की अभिलाषा”
“परिंदे की अभिलाषा”
DrLakshman Jha Parimal
गुलामी के कारण
गुलामी के कारण
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
नौका को सिन्धु में उतारो
नौका को सिन्धु में उतारो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"चारपाई"
Dr. Kishan tandon kranti
अधूरे ख़्वाब की जैसे
अधूरे ख़्वाब की जैसे
Dr fauzia Naseem shad
अजनबी !!!
अजनबी !!!
Shaily
Loading...