Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Feb 2023 · 1 min read

मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला

मुसलसल ठोकरो से मेरा रास्ता नहीं बदला
मुझे गिराने में जमाना बदला मैं नहीं बदला ,

मैं लोगों से कहता रहता था उसके बारे में
जी नहीं पाऊंगा वह शख्स अगर बदला !

कवि दीपक सरल

1 Like · 425 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*महान आध्यात्मिक विभूति मौलाना यूसुफ इस्लाही से दो मुलाकातें*
*महान आध्यात्मिक विभूति मौलाना यूसुफ इस्लाही से दो मुलाकातें*
Ravi Prakash
तब मानोगे
तब मानोगे
विजय कुमार नामदेव
अनमोल आँसू
अनमोल आँसू
Awadhesh Singh
-- आधे की हकदार पत्नी --
-- आधे की हकदार पत्नी --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कार्य महान
कार्य महान
surenderpal vaidya
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
फ़ासले जब भी
फ़ासले जब भी
Dr fauzia Naseem shad
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
मै जो कुछ हु वही कुछ हु।
पूर्वार्थ
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
होली
होली
Madhavi Srivastava
दोहा छन्द
दोहा छन्द
नाथ सोनांचली
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
जब कभी उनका ध्यान, मेरी दी हुई ring पर जाता होगा
The_dk_poetry
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
लोग कह रहे हैं आज कल राजनीति करने वाले कितने गिर गए हैं!
Anand Kumar
3205.*पूर्णिका*
3205.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वाणी वंदना
वाणी वंदना
Dr Archana Gupta
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
#शीर्षक:-तो क्या ही बात हो?
Pratibha Pandey
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
🥀*अज्ञानीकी कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
महापुरुषों की सीख
महापुरुषों की सीख
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
तुमने मुझे दिमाग़ से समझने की कोशिश की
Rashmi Ranjan
व्यावहारिक सत्य
व्यावहारिक सत्य
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
ग़ज़ल/नज़्म - मेरे महबूब के दीदार में बहार बहुत हैं
अनिल कुमार
कहो तो..........
कहो तो..........
Ghanshyam Poddar
रात का आलम किसने देखा
रात का आलम किसने देखा
कवि दीपक बवेजा
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
हर किसी के लिए मौसम सुहाना नहीं होता,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भारत के वायु वीर
भारत के वायु वीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
परेशानियों का सामना
परेशानियों का सामना
Paras Nath Jha
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
रात में कर देते हैं वे भी अंधेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...