Sep 24, 2016 · 1 min read

मुल्क ऐसा दुष्ट वो हैवान है

मुल्क ऐसा दुष्ट वो हैवान है
मौत से क्यों अपनी अंजान है

वार चोरों सा हमेशा छिप करे
जो किसी शैतान की पहचान है

रोज लोगों को करे बर्बाद वो
बस तबाही का यही फरमान है

जो सजाये आज अपनी ही चिता
जा रहा जो राह वो शमशान है

बाप से निकला यहाँ बेटा कभी
इसलिये थोड़ा अभी नादान है

बाँट बटवारा देश का जिसने किया
वो जहाँ में आज क्यों बेईमान है

जानता है जो न शिष्टाचार यह
बस पड़ोसी मुल्क का यह ज्ञान है

सब सहन करता रहे बोले न कुछ
वो जहाँ में आज हिन्दुस्तान है

पार सीमा को कर चला आये यहाँ
चार उनके मार दे सम्मान है

दिल दुखाओ तुम किसी का क्यों कभी
इस खुदा के बन्दे का यह गान है

डॉ मधु त्रिवेदी

70 Likes · 181 Views
You may also like:
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
Jyoti Khari
हिन्दी साहित्य का फेसबुकिया काल
मनोज कर्ण
खोलो मन की सारी गांठे
Saraswati Bajpai
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
'फूल और व्यक्ति'
Vishnu Prasad 'panchotiya'
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
'पिता' हैं 'परमेश्वरा........
Dr. Alpa H.
कुछ भी ना साथ रहता है।
Taj Mohammad
मेरे दिल का दर्द
Ram Krishan Rastogi
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
ऐ उम्मीद
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लाडली की पुकार!
Dr. Arti 'Lokesh' Goel
# हे राम ...
Chinta netam मन
कराहती धरती (पृथ्वी दिवस पर)
डॉ. शिव लहरी
एक मजदूर
Rashmi Sanjay
दिलदार आना बाकी है
Jatashankar Prajapati
बुलंद सोच
Dr. Alpa H.
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यही तो मेरा वहम है
Krishan Singh
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
तलाश
Dr. Rajeev Jain
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
आंचल में मां के जिंदगी महफूज होती है
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेटी का संदेश
Anamika Singh
हक़ीक़त
अंजनीत निज्जर
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
हम आ जायेंगें।
Taj Mohammad
गरीब लड़की का बाप है।
Taj Mohammad
हमारी ग़ज़लों पर झूमीं जाती है
Vinit Singh
Loading...