Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Sep 2016 · 1 min read

मुल्क ऐसा दुष्ट वो हैवान है

मुल्क ऐसा दुष्ट वो हैवान है
मौत से क्यों अपनी अंजान है

वार चोरों सा हमेशा छिप करे
जो किसी शैतान की पहचान है

रोज लोगों को करे बर्बाद वो
बस तबाही का यही फरमान है

जो सजाये आज अपनी ही चिता
जा रहा जो राह वो शमशान है

बाप से निकला यहाँ बेटा कभी
इसलिये थोड़ा अभी नादान है

बाँट बटवारा देश का जिसने किया
वो जहाँ में आज क्यों बेईमान है

जानता है जो न शिष्टाचार यह
बस पड़ोसी मुल्क का यह ज्ञान है

सब सहन करता रहे बोले न कुछ
वो जहाँ में आज हिन्दुस्तान है

पार सीमा को कर चला आये यहाँ
चार उनके मार दे सम्मान है

दिल दुखाओ तुम किसी का क्यों कभी
इस खुदा के बन्दे का यह गान है

डॉ मधु त्रिवेदी

70 Likes · 287 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
पुरखों का घर - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/184.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
-शेखर सिंह
-शेखर सिंह
शेखर सिंह
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
खोल नैन द्वार माँ।
खोल नैन द्वार माँ।
लक्ष्मी सिंह
हिंदी दिवस - विषय - दवा
हिंदी दिवस - विषय - दवा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिनकर/सूर्य
दिनकर/सूर्य
Vedha Singh
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
रफ़्ता -रफ़्ता पलटिए पन्ने तार्रुफ़ के,
ओसमणी साहू 'ओश'
श्री रामप्रकाश सर्राफ
श्री रामप्रकाश सर्राफ
Ravi Prakash
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सातो जनम के काम सात दिन के नाम हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
रमेशराज की 11 तेवरियाँ
कवि रमेशराज
Love is not about material things. Love is not about years o
Love is not about material things. Love is not about years o
पूर्वार्थ
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
ये जंग जो कर्बला में बादे रसूल थी
shabina. Naaz
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
ग़ज़ल/नज़्म/मुक्तक - बिन मौसम की बारिश में नहाना, अच्छा है क्या
अनिल कुमार
गुरू शिष्य का संबन्ध
गुरू शिष्य का संबन्ध
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
आज इंसान के चेहरे पर चेहरे,
Neeraj Agarwal
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
पाठ कविता रुबाई kaweeshwar
jayanth kaweeshwar
Moral of all story.
Moral of all story.
Sampada
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Ishq ke panne par naam tera likh dia,
Chinkey Jain
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
😢 #लघुकथा / #फ़रमान
*प्रणय प्रभात*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
*तू बन जाए गर हमसफऱ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
💤 ये दोहरा सा किरदार 💤
Dr Manju Saini
नारी
नारी
Dr Archana Gupta
मुक्तक
मुक्तक
Neelofar Khan
We can rock together!!
We can rock together!!
Rachana
कुछ नही हो...
कुछ नही हो...
Sapna K S
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
मैं नहीं हो सका, आपका आदतन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जीवन उत्साह
जीवन उत्साह
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
Loading...