Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Apr 2024 · 4 min read

*मुर्गा की बलि*

हमारा देश आस्था और धार्मिक रीति-रिवाज का देश माना जाता है। लोग इस देश में इतने आस्थावान हैं, कि पत्थर जिस पर लिखा होता है फलां गांव,शहर या कस्बा इतनी दूर है, उसे भी हाथ जोड़कर प्रणाम कर करते हैं और उसके आगे माथा टेकते हैं। इसी प्रकार देश के विभिन्न भागों में अलग-अलग प्रकार की प्रथाएं और रीति रिवाज पाए जाते हैं। देश के कुछ भागों में लोग अपने इष्ट देव को प्रसन्न करने के लिए मनुष्य और पशु पक्षियों की बलि चढ़कर उन्हें मार देते हैं। उनका मानना होता है, कि ऐसा करने से उनके इष्ट देव प्रसन्न हो जाते हैं और उन्हें मनचाहा वरदान प्रदान करते हैं। ऐसी प्रथाएं जिनका कोई औचित्य नहीं है, हमारे देश में विभिन्न भागों में होती रहती हैं।
अब से लगभग 20-22 साल पुरानी बात है। हमारा एक खेत हमारे गांव के दक्षिण में लगभग 3 किलोमीटर दूर है। उस खेत पर जाते हुए, जैसे ही गांव को पार करते हैं, एक चौराहा पड़ता है। कभी-कभी गांव वालों का कहना होता है, कि इस चौराहे पर ही गांव के कुछ लोग टोने-टोटके करते रहते हैं।
रात के लगभग 9-10 बजे होंगे, हमारे ही गांव के दो व्यक्ति जो भक्ताई सीख रहे थे, जिनमें एक का नाम कालीचरन था और दूसरे का सुरेश था। इस चौराहे पर लगभग 9-10 बजे, ये दोनों नव भगत चौराहे वाली देवी के लिए एक जीवित मुर्गा, शराब, पान अगरबत्ती, लाल कपड़ा कुछ प्याले इत्यादि लेकर पहुंच गए और उस चौराहे पर बैठकर शराब प्यालो में करके और पान इत्यादि को फैलाकर बैठ ही थे, कि सौभाग्य से उस दिन मेरे पिताजी भी उसी खेत से जो गांव से दक्षिण में तीन किमी की दूरी पर था, वापस लौट रहे थे। जैसे ही वह उनके कुछ करीब पहुंचे तो उन्होंने देखा चौराहे पर उजाला हो रहा था और कोई व्यक्ति मंत्रों का जाप कर रहा था। और उनके पास प्याले, शराब की बोतल अगरबत्ती और एक सफेद रंग का मुर्गा था जो उन्होंने अपनी गोद में पकड़कर बैठा रखा था। उस समय रास्ते में झुंड बहुत हुआ करते थे। इन झंडों को काटकर ही लोग अपने घर पर छप्पर बनाकर डालते थे। इन झुंडों से काटे जाने वाली, जिसे गांव में पतेल बोलते थे, उसी से छप्पर बनाया जाता था और सरकंडो से छप्पर के बत्ता बनाए जाते थे। मेरे पिताजी ने थोड़ी दूर से उन दोनों का यह करामात देखा तो वह तुरन्त समझ गए कि यहां कोई भक्त है, जो मुर्गे की बलि चढ़ाएगा। यह देखने के लिए कि यह मुर्गे को किधर फेंकेंगे, अनुमान लगाकर एक झुंड की बगल में छुपकर बैठ गए और उन दोनों का करिश्मा देखने लगे। वह मंत्रों का लगातार जाप करते रहे, फिर उन्होंने चौराहे वाले देवी को भोग लगाया और दारु (शराब) खुद पी गए और पान भी खुद खा गए। जब उन्हें नशा हो गया तो उनमें से एक ने मुर्गे की गर्दन और मुर्गे को पकड़ा और दूसरे ने नुकीला चुरा निकाला और तुरंत मुर्गे की गर्दन काट कर उसी दिशा में, जिस दिशा में मेरे पिताजी झुंड की आड़ में खड़े हुए थे यह कहते हुए फेंका,-“लै ले जा इस अपने परसाद को, यहां क्या लैने आये रई है।”यह कहते हुए इन दोनों ने जैसे ही मुर्गा फेंका तो वह पिताजी के पास ही जाकर गिरा। पिताजी ने तुरन्त मौके का लाभ उठाया और मुर्गे को उठाकर कुछ दूरी पर जाकर उस मुर्गे के पंखों को उखाड़ने(साफ सफाई करने) लगे। उन दोनों को इस बात का कुछ पता नहीं था, कि यहां कोई छुपकर हमारा कार्यक्रम भी देख रहा है।
अब दोनों नवोदित भगत मुर्गे को खोजने लगते हैं, लेकिन मुर्गा वहां हो तो मिले। काफी देर तक उन्होंने मुर्गे को यह कहते हुए ढूंढा कि,-” यार फेंका तो यही था, आखिर गया कहां?, आज तो सचमुच चौराहे वाली वाली ले गई दिखै है।”फिर वे दोनों काफी देर बाद खोजते-खोजते और यह कहते हुए,-” कहीं कोई जंगली जानवर तो नहीं ले गया है।” पिताजी के पास आए और पिताजी को देखकर वह घबरा गए। जब पिताजी ने उन्हें डरावने और मजाकिया अंदाज में डांटा। पिताजी की आवाज पहचान कर वे दोनों कहने लगे,-” यार हम तो सचमुच डर गए थे, कि मुर्गे को आज चौराहे वाली ले गई।”
फिर क्या था वे तीनों मुर्गे को लेकर वापस घर आ गए और उस मुर्गे को दोनों भगत जी ने पकाया और उन दोनों के साथ हमारे पिताजी ने भी, वह मुर्गा खाया। आज भी वह दोनों जब कभी पिताजी को मिलते हैं, तो हंसते हैं, कि यार वह बात सदा याद रहेगी।
आज भी हमारे समाज में ऐसी बहुत सी घटनाएं और रीति रिवाज अपनाये जाते हैं, जिनसे हमें कोई लाभ नहीं होता शिवा नुकसान के। इसलिए ऐसे कामों से सदैव दूर रहिए और लोगों को समझाइए कि इससे कोई लाभ होने वाला नहीं है। ऐसे बेकार कार्य से बचने के लिए एकमात्र उपाय हम सबको शिक्षित होना बहुत जरूरी है। अतः पढ़िए, आगे बढ़िए और ऐसे कामों से हमेशा दूर रहिए।

Language: Hindi
1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dushyant Kumar
View all
You may also like:
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभाल कर।
लक्ष्मी सिंह
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेटी
बेटी
Neeraj Agarwal
Below the earth
Below the earth
Shweta Soni
पितर पाख
पितर पाख
Mukesh Kumar Sonkar
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
बाहरी वस्तु व्यक्ति को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
🌹जिन्दगी🌹
🌹जिन्दगी🌹
Dr Shweta sood
फितरत
फितरत
पूनम झा 'प्रथमा'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
💐श्री राम भजन💐
💐श्री राम भजन💐
Khaimsingh Saini
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
जादुई गज़लों का असर पड़ा है तेरी हसीं निगाहों पर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
फितरत के रंग
फितरत के रंग
प्रदीप कुमार गुप्ता
बंदिशें
बंदिशें
Kumud Srivastava
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
कितने कोमे जिंदगी ! ले अब पूर्ण विराम।
डॉ.सीमा अग्रवाल
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
कोई अपनों को उठाने में लगा है दिन रात
Shivkumar Bilagrami
दोहा
दोहा
दुष्यन्त 'बाबा'
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
दिलों में प्यार भी होता, तेरा मेरा नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
हो गये अब हम तुम्हारे जैसे ही
gurudeenverma198
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
अंधेरों में अंधकार से ही रहा वास्ता...
कवि दीपक बवेजा
हरि हृदय को हरा करें,
हरि हृदय को हरा करें,
sushil sarna
चुनावी साल में
चुनावी साल में
*Author प्रणय प्रभात*
प्रीत ऐसी जुड़ी की
प्रीत ऐसी जुड़ी की
Seema gupta,Alwar
वो मुझे पास लाना नही चाहता
वो मुझे पास लाना नही चाहता
कृष्णकांत गुर्जर
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
क्या हक़ीक़त है ,क्या फ़साना है
पूर्वार्थ
होता है सबसे बड़ा, सदा नियति का खेल (कुंडलिया)
होता है सबसे बड़ा, सदा नियति का खेल (कुंडलिया)
Ravi Prakash
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
“जहां गलती ना हो, वहाँ झुको मत
शेखर सिंह
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
ज्योति मौर्या बनाम आलोक मौर्या प्रकरण…
Anand Kumar
Loading...