Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Feb 2024 · 1 min read

मुराद

मेरा भी मन करता है
कि मैं ऑफिस जाऊं ,
कोई मेरे लिए टिफिन बनाए
और मैं स्वाद लेकर खाऊं ,

मेरे पीछे भी कोई
दरवाज़े तक दौड़ा आए ,
कुछ सेकेंड की देरी के लिए
लगातार साॅरी की रट लगवाऊं ,

मैं भी ऑंखें तरेरकर
हाथ से पानी की बोतल छिनती
मुंह पर दरवाज़ा बंद करके
धड़धड़ाती सीढियां उतरती जाऊं ,

शाम को वापस घर लौटने पर
अपनी थकान का ठीकरा उसके सर फोड़ूं
टीवी के सामने पसर कर
मज़े से चाय-नाश्ता खाऊं ,

अपनी पसंद का डिनर बनवाकर
जानबूझकर कमी निकालूं
उसको ग्लानि से भरवाकर
फिर खाना खाने आऊं ,

घर में मेहमानों के आने पर
ख़ुद को इतना व्यस्त बताऊं
इसको और काम ही क्या है
हर बात में ये जताऊं ,

इस जनम में ना सही
अगले जनम में ये मुराद पाऊं
ऐसे नामुरादों को ना बख़्शू
वो स्त्री और मैं पुरुष बन पाऊं ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

95 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
मैं तुझसे मोहब्बत करने लगा हूं
Sunil Suman
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
*नदियाँ पेड़ पहाड़ हैं, जीवन का आधार(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
मिलकर नज़रें निगाह से लूट लेतीं है आँखें
Amit Pandey
प्यारा सा स्कूल
प्यारा सा स्कूल
Santosh kumar Miri
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
ज़िन्दगी के सफर में राहों का मिलना निरंतर,
Sahil Ahmad
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
जिंदगी जिंदादिली का नाम है
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
श्री राम जय राम।
श्री राम जय राम।
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
सुख के क्षणों में हम दिल खोलकर हँस लेते हैं, लोगों से जी भरक
ruby kumari
"पंजे से पंजा लड़ाए बैठे
*Author प्रणय प्रभात*
"खिलाफत"
Dr. Kishan tandon kranti
" जीवन है गतिमान "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"माँ"
इंदु वर्मा
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
मालूम नहीं, क्यों ऐसा होने लगा है
gurudeenverma198
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
2744. *पूर्णिका*
2744. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तु आदमी मैं औरत
तु आदमी मैं औरत
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
सत्य उस तीखी औषधि के समान होता है जो तुरंत तो कष्ट कारी लगती
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
सबने सब कुछ लिख दिया, है जीवन बस खेल।
Suryakant Dwivedi
नहीं देखा....🖤
नहीं देखा....🖤
Srishty Bansal
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
वस्तु काल्पनिक छोड़कर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माटी
माटी
AMRESH KUMAR VERMA
एहसास
एहसास
Dr fauzia Naseem shad
झील किनारे
झील किनारे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
स्वातंत्र्य का अमृत महोत्सव
surenderpal vaidya
मैं तुझे खुदा कर दूं।
मैं तुझे खुदा कर दूं।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
Loading...