Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jul 2022 · 1 min read

मुबारक हो।

तुमको तुम्हारी ये खुशियां मुबारक हो।
हम यह जिंदगी गमों के साथ जी लेंगे।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

1 Like · 2 Comments · 64 Views
You may also like:
पिता
Saraswati Bajpai
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
छोटा-सा परिवार
श्री रमण 'श्रीपद्'
चंदा मामा बाल कविता
Ram Krishan Rastogi
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
मुझे तुम भूल सकते हो
Dr fauzia Naseem shad
बहुआयामी वात्सल्य दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियों की जिंदगी
AMRESH KUMAR VERMA
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
माँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
विजय कुमार 'विजय'
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
If we could be together again...
Abhineet Mittal
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
दिल में भी इत्मिनान रक्खेंगे ।
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Dr. Kishan Karigar
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
Loading...