Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Feb 2024 · 2 min read

मुझे याद🤦 आती है

मुझे याद है,
जब घर में जरूरत हुई,
तो पहले छत,
बदली गई पराल की,
बरसात के टप – टप,
से सुरक्षा के लिए।।

फिर ,
बैठक हुई,
जरूरत की तराजू ने,
तोला,
दादा – पापा के चप्पलों को,
बदली गई,
बद्दियां ,
उनकी कई बार की ,
टूटी थी जो,
मोमबत्ती से जुड़ी कड़ी।।

मुझे याद है कि
त्यौहारों पर मिलते,
जरूर थे,
कपड़े जरूरत के नए,
पर ,
कपड़े कभी भी,
सेवामुक्त नहीं होते थे ,
घर के।।

मुझे याद है कि
पहले बाहरी पहनावा,
सीमित हुआ,
बाद के,
घरेलू प्रयोगों में,
आता था काम,
घर बैठे दादा – पापा के,
वे पहनते थे,
जरूरत तक।।

मुझे याद है कि
फिर स्तर घटता,
कपड़े का,
उसे पहनकर,
पापा – चाचा ,
उठाते थे,
खाद खेतों में,
बिखेरने जाते थे,
गोबर – बराबर।।

मुझे याद है कि
भारी बोरी,
गेहूं की भी,
ढोने के काम आता,
पीठ रखकर,
मैंने देखा मां,
तसले में ढोते वक्त,
सिर का रक्षक,
बनाती थी,
वही कपड़ा,
जरूरत का।।

मुझे याद है कि
वही कपडा,
मां के हाथों में,
बनता था,
पोंछने वाला,
पोंछा,
उसी से खिड़की भी,
बिखरा तेल और
कभी – कभी,
पानी भी पोंछा जाता था।।

मुझे याद है कि
बर्तन पुराने ,
भले हो जाएं,
जैसे कपड़े और चप्पलें,
पर उनको भी,
अमल में लाना ,
घर जानता था बखूबी।।

मुझे याद है कि

नए और वजनदार,
बर्तन बनते थे,
शान दादा की,
घर आए मेहमान की,
पापा और मां की।।

मुझे याद है कि
हमें तो,
भैया – दीदी,
बहन,
सबका भाग,
खेत जैसे,
एक ही थाली में ,
खाना में ,
बनाकर खाने,
खींचकर दो रेखाएं ,
चार भागों में ,
बांट देती मां,
रेखागणितज्ञा।।

मुझे याद है कि
खूब खाकर,
तंदुरुस्त शरीर को,
दुरुस्त करने की,
कुछ जरूरत की ,
बैठक बैठी,
फुर्सत में तो,
जिक्र हुआ ,
जरूरत में,
साइकिल का ।।

मुझे याद है कि
दादा के ओहदे में,
बड़प्पन को मानी,
गई, जरूरत ,
तब आई मेरे,
कद के तीन जोड़ की,
ऊंची साइकिल।।

मुझे अब याद नहीं,
तरस आती है,
पापा की साइकिल,
मम्मी की स्कूटी,
मोटर वाली,
अपनी रेंजर ब्रांड की,
आधुनिकता पर।।

तनिक ठेस से ,
स्क्रैच खाने वाली,
फिर ,
कद – वजन में,
दादा की साइकिल से,
कम जोर वाली,
विफल ।।

इसलिए मुझे समझ आता है,
ये सब जरूरत नहीं ,
शौक है,
इस दौर के,
फलत: ,
इनसे जुड़ती नहीं याद।।

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
यह जो मेरी हालत है एक दिन सुधर जाएंगे
Ranjeet kumar patre
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
जब भी किसी कार्य को पूर्ण समर्पण के साथ करने के बाद भी असफलत
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#ग़ज़ल-
#ग़ज़ल-
*Author प्रणय प्रभात*
व्हाट्सएप युग का प्रेम
व्हाट्सएप युग का प्रेम
Shaily
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
अंतरराष्ट्रीय योग दिवस
Ram Krishan Rastogi
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
चन्द्रयान..…......... चन्द्रमा पर तिरंगा
Neeraj Agarwal
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
जो हार नहीं मानते कभी, जो होते कभी हताश नहीं
महेश चन्द्र त्रिपाठी
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
झूठे से प्रेम नहीं,
झूठे से प्रेम नहीं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
उसकी जुबाँ की तरकश में है झूठ हजार
'अशांत' शेखर
सुप्रभातम
सुप्रभातम
Ravi Ghayal
होली है!
होली है!
Dr. Shailendra Kumar Gupta
देश अनेक
देश अनेक
Santosh Shrivastava
हम जितने ही सहज होगें,
हम जितने ही सहज होगें,
लक्ष्मी सिंह
दोहे-मुट्ठी
दोहे-मुट्ठी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
Everything happens for a reason. There are no coincidences.
पूर्वार्थ
"रोटी और कविता"
Dr. Kishan tandon kranti
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
चंद्र ग्रहण के बाद ही, बदलेगी तस्वीर
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
"मुश्किल वक़्त और दोस्त"
Lohit Tamta
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Jeevan ke is chor pr, shanshon ke jor pr
Anu dubey
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
*वो बीता हुआ दौर नजर आता है*(जेल से)
Dushyant Kumar
रेत और जीवन एक समान हैं
रेत और जीवन एक समान हैं
राजेंद्र तिवारी
Dear  Black cat 🐱
Dear Black cat 🐱
Otteri Selvakumar
खुदकुशी से पहले
खुदकुशी से पहले
Shekhar Chandra Mitra
मां कुष्मांडा
मां कुष्मांडा
Mukesh Kumar Sonkar
Loading...