Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Apr 2023 · 1 min read

मुझे बखूबी याद है,

मुझे बखूबी याद है,
मेरे अच्छे दिनों में हजारों की भीड़ हुआ करती थी ?
और आज , मैं और सिर्फ़ वो……..!

@Smishra

1 Like · 2 Comments · 389 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रिशते ना खास होते हैं
रिशते ना खास होते हैं
Dhriti Mishra
मेरी पहचान!
मेरी पहचान!
कविता झा ‘गीत’
दिल का सौदा
दिल का सौदा
सरिता सिंह
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
"आँखों की नमी"
Dr. Kishan tandon kranti
Ramal musaddas saalim
Ramal musaddas saalim
sushil yadav
शोख- चंचल-सी हवा
शोख- चंचल-सी हवा
लक्ष्मी सिंह
प्रेम
प्रेम
Dr.Archannaa Mishraa
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*पत्रिका समीक्षा*
*पत्रिका समीक्षा*
Ravi Prakash
बसंत आने पर क्या
बसंत आने पर क्या
Surinder blackpen
अपना नैनीताल...
अपना नैनीताल...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"विकसित भारत" देखना हो, तो 2047 तक डटे रहो बस। काल के कपाल प
*Author प्रणय प्रभात*
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
अनादि
अनादि
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
सच तो रोशनी का आना हैं
सच तो रोशनी का आना हैं
Neeraj Agarwal
" सर्कस सदाबहार "
Dr Meenu Poonia
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
हम हिंदुस्तानियों की पहचान है हिंदी।
Ujjwal kumar
माया का रोग (व्यंग्य)
माया का रोग (व्यंग्य)
नवीन जोशी 'नवल'
भारत का सिपाही
भारत का सिपाही
Rajesh
मतला
मतला
Anis Shah
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
एक सख्सियत है दिल में जो वर्षों से बसी है
हरवंश हृदय
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
मन हमेशा एक यात्रा में रहा
Rituraj shivem verma
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
जितना मिला है उतने में ही खुश रहो मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
परिभाषा संसार की,
परिभाषा संसार की,
sushil sarna
आज का महाभारत 1
आज का महाभारत 1
Dr. Pradeep Kumar Sharma
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
फिर से तन्हा ek gazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
Loading...