Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या —- गज़ल -निर्मला कपिला

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या
मिली तकदीर से हम्को सजा क्या

बेटियां मां बाप से जब दूर जातीं
बिना उनके जिगर मे टूटता क्या

घुस आया पाक सीमा मे उठो सब
ये सोचो दुश्मनों को हो सजा क्या

चुनावों मे मिले भाषण बडे बडे
हकीकत मे तो जनता को मिला क्या

बहाने रोज करते बाबूजी क्यों
बिना पैसे कभी कुछ भी हुआ क्या

न नेताऔं को कोई भी फिक्र है
न संसद गर चले तो फायदा क्या

छुपाये ख्वाब आंखों मे कई हैं
बतायें किस तरह उनका नशा क्या

3 Comments · 312 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🙅कही-अनकही🙅
🙅कही-अनकही🙅
*Author प्रणय प्रभात*
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
कभी भी ऐसे व्यक्ति को,
Shubham Pandey (S P)
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
थोड़ा थोड़ा
थोड़ा थोड़ा
Satish Srijan
"किताबों में उतारो"
Dr. Kishan tandon kranti
उस वक़्त मैं
उस वक़्त मैं
gurudeenverma198
2287.
2287.
Dr.Khedu Bharti
नेता जब से बोलने लगे सच
नेता जब से बोलने लगे सच
Dhirendra Singh
+जागृत देवी+
+जागृत देवी+
Ms.Ankit Halke jha
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
ग्लोबल वार्मिंग :चिंता का विषय
कवि अनिल कुमार पँचोली
मनुख
मनुख
श्रीहर्ष आचार्य
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
कृतघ्न व्यक्ति आप के सत्कर्म को अपकर्म में बदलता रहेगा और आप
Sanjay ' शून्य'
हाँ मैं व्यस्त हूँ
हाँ मैं व्यस्त हूँ
Dinesh Gupta
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
You're going to realize one day :
You're going to realize one day :
पूर्वार्थ
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
आधार छंद - बिहारी छंद
आधार छंद - बिहारी छंद
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
हमारा अपना........ जीवन
हमारा अपना........ जीवन
Neeraj Agarwal
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
वक़्त बदल रहा है, कायनात में आती जाती हसीनाएँ बदल रही हैं पर
Sukoon
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
मुझे जीना सिखा कर ये जिंदगी
कृष्णकांत गुर्जर
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
यूनिवर्सिटी के गलियारे
यूनिवर्सिटी के गलियारे
Surinder blackpen
अंतिम एहसास
अंतिम एहसास
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
सब छोड़ कर चले गए हमें दरकिनार कर के यहां
VINOD CHAUHAN
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
आपका स्नेह पाया, शब्द ही कम पड़ गये।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*उदघोष*
*उदघोष*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
माइल है दर्दे-ज़ीस्त,मिरे जिस्मो-जाँ के बीच
Sarfaraz Ahmed Aasee
Loading...