Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 1 min read

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या —- गज़ल -निर्मला कपिला

मुझे तुमसे या दुनियां से गिला क्या
मिली तकदीर से हम्को सजा क्या

बेटियां मां बाप से जब दूर जातीं
बिना उनके जिगर मे टूटता क्या

घुस आया पाक सीमा मे उठो सब
ये सोचो दुश्मनों को हो सजा क्या

चुनावों मे मिले भाषण बडे बडे
हकीकत मे तो जनता को मिला क्या

बहाने रोज करते बाबूजी क्यों
बिना पैसे कभी कुछ भी हुआ क्या

न नेताऔं को कोई भी फिक्र है
न संसद गर चले तो फायदा क्या

छुपाये ख्वाब आंखों मे कई हैं
बतायें किस तरह उनका नशा क्या

3 Comments · 228 Views
You may also like:
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
HE destinated me to do nothing but to wait.
Manisha Manjari
जीवन दायिनी मां गंगा।
Taj Mohammad
✍️मानो तो ये भी सही✍️
'अशांत' शेखर
घुटने टेके नर, कुत्ती से हीन दिख रहा
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
मांगू तुमसे पूजा में, यही छठ मैया
gurudeenverma198
यहां उनका भी दिल जोड़ दो/yahan unka bhi dil jod...
Shivraj Anand
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
बच्चों जग में नाम कमाना (बाल कविता)
Ravi Prakash
वो बोली - अलविदा ज़ाना
bhandari lokesh
अजब रिकार्ड
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
करुणा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
श्रेष्ट शिखर बिरजू छुए, अद्भुत था हर नृत्य
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसको भेजा हुआ खत
कवि दीपक बवेजा
आँखें भी बोलती हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
श्याम घनाक्षरी-2
सूर्यकांत द्विवेदी
खुशी और गम
himanshu yadav
आज के जीवन की कुछ सच्चाईयां
Ram Krishan Rastogi
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव अदम्य
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आप कौन से मुसलमान है भाई ?
ओनिका सेतिया 'अनु '
ऐ दिल न चल इश्क की राह पर,
Abhishek Pandey Abhi
पिता श्रेष्ठ है इस दुनियां में जीवन देने वाला है
सतीश मिश्र "अचूक"
भगतसिंह की फांसी
Shekhar Chandra Mitra
अहसास
Vikas Sharma'Shivaaya'
आँखों की बरसात
Dr. Sunita Singh
इंसानी दिमाग
विजय कुमार अग्रवाल
तुझे मतलूब थी वो रातें कभी
Manoj Kumar
Loading...