Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Oct 2022 · 1 min read

मुझे चांद का इंतज़ार नहीं

जब तू सामने आता है
मेरा इंतज़ार खत्म हो जाता है
देखकर तुझको ही
मेरा चांद मुझे दिख जाता है

देखकर ही तेरा चेहरा
मेरे दिल को सुकून आता है
मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
फिर भी ये क्यों आ जाता है

देखना चाहता है वो किसी को
जो रोज़ रोज़ चला आता है
कभी दिन को कभी रात को
वक्त बेवक्त दिख ही जाता है

मिला दे अब तो कोई उससे
चांद का इंतज़ार और न बढ़ा
है उसका भी इंतज़ार किसी को
तू उनकी धड़कने और न बढ़ा

मैं तो कहता हूं कभी भी
तू किसी से इंतज़ार न करवा
बहुत मुश्किल होता है इंतज़ार
बैचैनी किसी की और न बढ़ा

मैंने भी किया है कई बार
घंटों घंटों तक किसी का इंतज़ार
जानता हूं, इंतज़ार के बाद
उसको देखकर आता है सुकून बेशुमार

मुझे चांद का इंतज़ार नहीं
लेकिन उसको तो है किसी का
मिल जाए उसे वो जल्द ही
तो सुकून लौट आएगा किसी का।

Language: Hindi
15 Likes · 2 Comments · 1240 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
आशा की एक किरण
आशा की एक किरण
Mamta Rani
धैर्य.....….....सब्र
धैर्य.....….....सब्र
Neeraj Agarwal
मुक्तक
मुक्तक
जगदीश शर्मा सहज
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
योग की महिमा
योग की महिमा
Dr. Upasana Pandey
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
Manoj Mahato
किस्से हो गए
किस्से हो गए
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"" *प्रताप* ""
सुनीलानंद महंत
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
निर्मल निर्मला
निर्मल निर्मला
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3320.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
*बलशाली हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कभी-कभी
कभी-कभी
Sûrëkhâ
कर्बला की मिट्टी
कर्बला की मिट्टी
Paras Nath Jha
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"रहमत"
Dr. Kishan tandon kranti
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
इस दरिया के पानी में जब मिला,
इस दरिया के पानी में जब मिला,
Sahil Ahmad
सनम
सनम
Satish Srijan
वृक्ष बन जाओगे
वृक्ष बन जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
मैं इश्क़ की बातें ना भी करूं फ़िर भी वो इश्क़ ही समझती है
Nilesh Premyogi
#लघुकथा-
#लघुकथा-
*प्रणय प्रभात*
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
हर दिन रोज नया प्रयास करने से जीवन में नया अंदाज परिणाम लाता
Shashi kala vyas
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
यूं अपनी जुल्फों को संवारा ना करो,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
దేవత స్వరూపం గో మాత
దేవత స్వరూపం గో మాత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
एक तेरे चले जाने से कितनी
एक तेरे चले जाने से कितनी
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
आपकी लिखावट भी यह दर्शा देती है कि आपकी बुद्धिमत्ता क्या है
Rj Anand Prajapati
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
तन्हां जो छोड़ जाओगे तो...
Srishty Bansal
Loading...