Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Mar 2023 · 2 min read

मुझे कृष्ण बनना है मां

मुझे कृष्ण बनना है मां,
क्यों भला??
बस स्टेज पर चढ़ नाचना है मुझे।
ऐसे कैसे सीखें बिना?
सीख रही हैं न पूजा ,सुमन और पुष्पा,
मैं भी सीख लूंगी।
मां ने बचपन की ज़िद समझी और
बोली ,”ठीक है ,सीख लेना”।

अगले दिन से सीखने लगी मैं
स्कूल में भारतनाट्यम।
फिर मास्टर जी ने घुंघरू लाने को कहा।
फिर मां ने कहा ,मिल जायेगें।
मां,कब लाओगी तुम घुंघरू?
रोज़ डांटते हैं मास्टर जी।
दो हफ्ते बीत गये ज़िद करते
तो मैंने पूछना ही छोड़ दिया।
मां को उदासी समझ आती थी मेरी।
एक दिन स्कूल से लौटी तो
धीरे से मां ने हाथ में पकड़ाए थे घुंघरू।
लेकिन ये क्या मां?
ये कोई घूंघरू है?
बाजार से क्यों नहीं लाई?
पिता की सहमति नहीं थी मेरे डांस सीखने में
एक मां की विवशता अब समझ आई मुझे,
मां ने अपने पुराने कमीज के कफ उतार कर
उस पर हाथ से टांक दिये थे पांच पांच घुंघरू,
जो उसने हमारे कुत्ते के पुराने पटे से उतारे थे।
और लगा दिए थे पीछे हुक।
समझाया था मुझे, बिटिया वो बाज़ार वाले
घुंघरू तो बडे़ थे
सरक जाते नीचे तेरे पैर से।
भोला मन मान गया,और घुंघरू बांध आंगन में
नाचने लगा।

फिर स्टेज पर भी जाना हुआ।
पूरे चेहरे ,हाथ और पांव में
नील लगा दिया
श्याम रंग में रंग गयी थी मैं
पीली पोशाक में।
पूजा बनी थी मेरी राधा
गीत था,
वृंदावन का कृष्ण कन्हैया,सब की आंखों का तारा।
खूब तालियां बजीं थी

गीत के बाद मां के सीने से झट जा लगी थी
मैं
खुशी के मारे ,मां बेटी खूब रोते थे।
काश कोई मोबाइल होता तो वो तस्वीर भी मैं दिखाती ,
जो मेरे दिल के आईने में आज मुझे बाबू नजर आ रही है।

सुरिंदर कौर

Language: Hindi
331 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
प्रथम दृष्टांत में यदि आपकी कोई बातें वार्तालाभ ,संवाद या लि
DrLakshman Jha Parimal
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक ख़्वाब सी रही
एक ख़्वाब सी रही
Dr fauzia Naseem shad
ज़िंदगी चलती है
ज़िंदगी चलती है
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
💐💐कुण्डलिया निवेदन💐💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
अमावस्या में पता चलता है कि पूर्णिमा लोगो राह दिखाती है जबकि
Rj Anand Prajapati
■ हाय राम!!
■ हाय राम!!
*Author प्रणय प्रभात*
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
रंग लहू का सिर्फ़ लाल होता है - ये सिर्फ किस्से हैं
Atul "Krishn"
*पानी केरा बुदबुदा*
*पानी केरा बुदबुदा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
खेल जगत का सूर्य
खेल जगत का सूर्य
आकाश महेशपुरी
निःशुल्क
निःशुल्क
Dr. Kishan tandon kranti
शायरी
शायरी
Jayvind Singh Ngariya Ji Datia MP 475661
ঈশ্বর কে
ঈশ্বর কে
Otteri Selvakumar
मैं पागल नहीं कि
मैं पागल नहीं कि
gurudeenverma198
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
वो देखो ख़त्म हुई चिड़ियों की जमायत देखो हंस जा जाके कौओं से
Neelam Sharma
भारत के राम
भारत के राम
करन ''केसरा''
छोटी-सी मदद
छोटी-सी मदद
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
बिहनन्हा के हल्का सा घाम कुछ याद दीलाथे ,
Krishna Kumar ANANT
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
ये कमाल हिन्दोस्ताँ का है
अरशद रसूल बदायूंनी
तितली रानी (बाल कविता)
तितली रानी (बाल कविता)
नाथ सोनांचली
Behaviour of your relatives..
Behaviour of your relatives..
Suryash Gupta
दहेज की जरूरत नही
दहेज की जरूरत नही
भरत कुमार सोलंकी
रमेशराज के 2 मुक्तक
रमेशराज के 2 मुक्तक
कवि रमेशराज
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
मै हिन्दी का शब्द हूं, तू गणित का सवाल प्रिये.
Vishal babu (vishu)
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सहारा...
सहारा...
Naushaba Suriya
मतदान
मतदान
Aruna Dogra Sharma
Loading...