Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2024 · 1 min read

मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर

मुझे अकेले ही चलने दो ,यह है मेरा सफर
रास्तों में कहीं उलझा तो कैसे घर जाऊंगा

रास्तों की ठोकरे नहीं रोक पाएंगी मुझको
मुझको रोका गया तो काफिला हो जाऊंगा

✍️Kavi 𝘿𝙚𝙚𝙥𝙖𝙠 𝙨𝙖𝙧𝙖𝙡

39 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
लघुकथा-
लघुकथा- "कैंसर" डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
किसी का यकीन
किसी का यकीन
Dr fauzia Naseem shad
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
☝विशेष दिन : अनूठा_उपाय....
*Author प्रणय प्रभात*
मेरी नाव
मेरी नाव
Juhi Grover
".... कौन है "
Aarti sirsat
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
इन चरागों का कोई मक़सद भी है
Shweta Soni
संवेदना(कलम की दुनिया)
संवेदना(कलम की दुनिया)
Dr. Vaishali Verma
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
जो बातें अनुकूल नहीं थीं
Suryakant Dwivedi
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
जब मैं मर जाऊं तो कफ़न के जगह किताबों में लपेट देना
Keshav kishor Kumar
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय
नाम:- प्रतिभा पाण्डेय "प्रति"
Pratibha Pandey
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
बुंदेली दोहा-पखा (दाढ़ी के लंबे बाल)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
"मेरे तो प्रभु श्रीराम पधारें"
राकेश चौरसिया
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
अपने-अपने संस्कार
अपने-अपने संस्कार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की कविता विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
3451🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
हो सके तो मुझे भूल जाओ
हो सके तो मुझे भूल जाओ
Shekhar Chandra Mitra
मुझे हमेशा लगता था
मुझे हमेशा लगता था
ruby kumari
*परिस्थिति चाहे जैसी हो, उन्हें स्वीकार होती है (मुक्तक)*
*परिस्थिति चाहे जैसी हो, उन्हें स्वीकार होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
त्याग
त्याग
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
आखिरी वक्त में
आखिरी वक्त में
Harminder Kaur
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
एक बार फिर ।
एक बार फिर ।
Dhriti Mishra
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
लोग जाम पीना सीखते हैं
लोग जाम पीना सीखते हैं
Satish Srijan
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
हर वक़्त तुम्हारी कमी सताती है
shabina. Naaz
"बल"
Dr. Kishan tandon kranti
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
कामनाओं का चक्रव्यूह, प्रतिफल चलता रहता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...