Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Mar 2024 · 1 min read

मुझको मिट्टी

मैं हूं तख़्लीक़ अपने ही रब की ,
मुझको मिट्टी शुमार मत करना ।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
5 Likes · 87 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
#लघुकथा
#लघुकथा
*प्रणय प्रभात*
अहसास
अहसास
Dr Parveen Thakur
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कान में रखना
कान में रखना
Kanchan verma
मोहक हरियाली
मोहक हरियाली
Surya Barman
3064.*पूर्णिका*
3064.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पिछले पन्ने 9
पिछले पन्ने 9
Paras Nath Jha
"कर्म और भाग्य"
Dr. Kishan tandon kranti
नारी बिन नर अधूरा🙏
नारी बिन नर अधूरा🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
घर आंगन
घर आंगन
surenderpal vaidya
बस्ते...!
बस्ते...!
Neelam Sharma
हमेशा फूल दोस्ती
हमेशा फूल दोस्ती
Shweta Soni
चुप रहो
चुप रहो
Sûrëkhâ
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
मेरी आँख में झाँककर देखिये तो जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
नजरों को बचा लो जख्मों को छिपा लो,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
प्रेम एक निर्मल,
प्रेम एक निर्मल,
हिमांशु Kulshrestha
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
मैं भी तुम्हारी परवाह, अब क्यों करुँ
gurudeenverma198
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
इस क्षितिज से उस क्षितिज तक देखने का शौक था,
Smriti Singh
मैं ....
मैं ....
sushil sarna
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
ये जो मुस्कराहट का,लिबास पहना है मैंने.
शेखर सिंह
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
इस नयी फसल में, कैसी कोपलें ये आयीं है।
Manisha Manjari
तलाक़ का जश्न…
तलाक़ का जश्न…
Anand Kumar
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
है हमारे दिन गिने इस धरा पे
DrLakshman Jha Parimal
Loading...